Saturday, July 31, 2010

द डे व्हेन एवरीथिंग वेंट रॉंग.....वेल..नॉट एवरीथिंग :)

घड़ी पर नज़र डाली, छः बजकर बीस मिनट, और मैने मोबाइल हाथों में लिया,मेसेज टाइप करने को कि I  m ready  और तभी घंटी बज उठी. सहेली का मिस्ड कॉल था. मोबाइल वहीँ रखा, क्यूंकि तेज बारिश हो रही थी. घर की चाबी उठायी, छाता लिया और दरवाजा खींच कर निकल आई, मॉर्निंग वाक के लिए. गेट के सामने सहेली  की गाड़ी नहीं दीखी.सोचा, शायद अभी आई नहीं है. उसकी बिल्डिंग की तरफ बढ़ चली, पर ना रास्ते में उसकी कार दीखी ना अपने युज़ुअल पार्किंग प्लेस पर. वह हमेशा मेरा इंतज़ार करती है. फिर सोचा शायद बेटे को देर हो रही होगी,फूटबाल प्रैक्टिस के लिए.इसलिए निकल गयी होगी. अभी छोड़ कर आ जाएगी.मैं सड़क पर अकेले ही थोड़ा आगे निकल गयी. थोड़ी देर बाद लौट कर आई,अब तक नहीं आई थी वो. मैं फिर दूसरी तरफ निकल गयी. थोड़ी देर बाद फिर उसकी  बिल्डिंग में आकर देखा,अब तक नहीं. मैं तो मोबाइल घर पर छोड़ कर आई थी.सोचा उसकी बिल्डिंग में हूँ,उसके घर जाकर ही उसकी बेटी को कहती हूँ, उसे कॉल करके देखे. पर उसकी लिफ्ट बंद थी. सातवीं मंजिल तक  चढ़ कर जाना गवारा नहीं हुआ.
लौट कर आई  तो वाचमैन दिखा, बोला "हाँ, मैडम तो बेटे को लेकर उसे छोड़ने गयी हैं "
थोड़ी देर फिर मैं घूम कर आई, अब तक वह नहीं लौटी थी.

अब मुझे चिंता भी होने लगी. सात बज गए थे. घर आई ,उसका मिस्ड कॉल देख थोड़ी शांति मिली कि सब ठीक हैं पर गुस्सा बहुत आया.

उसे फोन मिलाया,मैं कुछ कहती इसके पहले ही वो बरस पड़ी, "
"अभी नींद खुली?? मैं फोन करके परेशान हूँ"

"मैं तुम्हारी बिल्डिंग के चार चक्कर लगा कर आ रही हूँ, हो कहाँ तुम?"

"मैने तो कितनी देर तुम्हारे गेट पर इंतज़ार किया"

"मैं तो तुम्हारा मिस्ड कॉल देखते ही निकल पड़ी"

"तुम्हे मेरी गाड़ी कैसे नहीं दीखी?"

"तुम्हे गेट से निकलती मैं, कैसे नहीं  दीखी?"
........
.......
बाय
बाय

दरअसल मुझे मिस्ड कॉल देने के बाद ,उसे थोड़ी देर लगी नीचे उतरने में और उसकी गाड़ी,दूसरी जगह पार्क थी. (ऐसा पहली बार हुआ था )मैं थोड़ी जल्दी निकल गयी और उसकी कार जगह  पर ना देख...यह सोचा कि वह चली गयी है. उसने गेट पर पहुँच कर मुझे फिर से फोन किया और सोचा शायद मै सो रही हूँ,इसलिए फोन नहीं उठा रही. और मैं सेल भी साथ में नहीं ले गयी थी.उसने बेटे को स्कूल छोड़ा और वहीँ पास के पार्क में ही घूमने चली गयी. और मैं उसका इंतज़ार करती रही.

दोनों को अपनी गलती का अहसास हुआ और फिर एक-एक सॉरी मेसेज भेजा.फिर थोड़ा रुक कर इन्बौक्स से ढूंढ अच्छे अच्छे दोस्ती के मेसेज भेजे एक दूसरे को और बारह बजते बजते हमलोग एक दूसरे से बात करते हंस रहें थे. हम दोनों के पतिदेव शहर से बाहर  गए हुए थे. बच्चों की कोचिंग क्लास थी .शनिवार का दिन हमारा ऐसा ही बेकार गुजरने वाला था.

उसने प्रस्ताव रखा,"चलो मूवी चलते हैं."

"पर इतनी बारिश हो रही है?"

"इतने दिन मुंबई में रहकर भी बारिश से डरती हो ..लेट्स गो"

"हम्म ओक्के"

हम महिलाओं का फिल्म देखने जाना इतना आसान नहीं. एक तो बहुत कम फिल्मे ही अच्छी लगती है. फिर थियेटर पास होना चाहिए. टाइमिंग सूट करनी चाहिए. क्यूंकि शाम तक घर भी वापस आना होता है.
जल्दी जल्दी पेपर पलटे गए. थियेटर,फिल्म निश्चित की  पर बारिश बढ़ती  ही जा रही थी. दोनों जन आधी आधी छतरी में.....ना अपनी अपनी छतरी में भीगते हुए निकल पड़े. मुंबई की बारिश में छतरी और भीगने का अन्योन्याश्रय सम्बन्ध है.आप बारिश में निकलेंगे तो छतरी जरूर लेंगे और यहाँ की बारिश ऐसी होती है कि बिचारी छतरी कुछ नहीं कर पाती,और आप भीगने से नहीं बच सकते.

थियेटर पहुँचते -पहुँचते तो लगा,अब ये बारिश रुकने वाली नहीं. हम डर गए. कहीं ऐसा ना हो, हम तीन घंटे तक फिल्म देखते रहें और बाहर निकले तो पता चला,पूरी मुंबई डूब गयी. एक दूसरे का मुहँ देखा और सर हिलाया, "ना कभी और देखते हैं...आज तो घर वापस चले जाते हैं. " हमने टिकट नहीं लिया पर सोचा.एक एक कॉफी तो पी ली जाए कम से कम.
गीले कपड़ों में ठंढ भी लग रही थी.पर अंदर की ए.सी. में ठंढ और बढ़ गयी,कॉफी ने भी कुछ काम नहीं किया. कॉफी पीते हम निराश आँखों से बाहर देखते रहें. बारिश काफी कम हो गयी थी,सिर्फ हमारी फिल्म कैंसिल करवानी थी उसे. हमने तय किया 'लिंकिंग रोड' पर  थोड़ी शॉपिंग कर ली जाए.' पर जब कॉफी शॉप से बाहर  निकले तो इतने सुहाने मौसम में सेल्समैन से झिक झिक कर कुछ  खरीदने का मन नहीं हुआ.लिंकिंग रोड इसीलिए कुख्यात है.  आठ सौ की चीज़  दो सौ तक लाने में हमारे सौ दो सौ शब्द तो खर्च हो ही जाते हैं.

फिल्म भी कैंसल हो गयी. शॉपिंग का मूड नहीं और  बारिश  की रफ़्तार भी धीमी हो गयी और घर वापस जाने का भी मन नहीं हो रहा. हमने तय किया बैंड स्टैंड चलते हैं,वहाँ प्रेमी युगल ही जाते हैं तो क्या दो सहेलियां नहीं जा सकतीं?. फैमिली के साथ तो वहाँ से कार से गुजरने पर भी मन होता है मुहँ फेर लें..ऐसे दृश्य होते हैं.

और हम पहुँच गए ,उन पत्थरों पर सर पटकती लहरों की फ़रियाद  सुनने. जिसे ना वह बेजान पत्थर सुनता है और ना अहसास से धड़कते एक दूसरे में खोये दो दिल. पर हम भी ठीक से कहाँ सुन पाए. अपनी छतरी ही संभालने में लगे रहें. इतनी हवा थी कि छतरी ने भी नाराज़ होकर आकाश की तरफ मुहँ  मोड़ लिया. ऐसे में वो गाना जरूर याद आ जाता है ,"छतरी ना खोल...उड़ जाएगी..हवा तेज़ है...." अब  भी ये गाना उतना ही बेक्कार  लगता है,जितना पहले लगता था..पर याद जरूर आ जाता  है.

ब्लॉग पढनेवाले तो सब एडल्ट ही हैं इसलिए बताया जा सकता है ,पहली बार एक 'गे' कपल को भी देखा.और बेवकूफों की तरह कितना भी हम कोशिश करते  आकाश से गिरती बूंदे जो लहरों के पत्थर से टकराने के बाद उडती बूंदों से  एकाकार हो रही थीं,उन्हें देखें..पर नज़र  जिद्दी बच्चे सी बार बार उधर ही  लौट जाती.आखिर कार हमने नज़रों को सिगड़ी में सिकते भुट्टो का लालच दिया और कोशिश कामयाब हुई. जब भी समंदर  के किनारे भुट्टे खाने का आनंद उठाती  हूँ. दूर अमेरिका में बैठी अपनी कजिन से हुई बहस याद आ जाती है.वहाँ के 'बीचेज' की बड़ी बखान करती, इतना नीला पानी है,इतना साफ़ सुथरा....और मैं कहती.."वहाँ  धीमी आंच  में सिकते भुट्टे मिलते हैं??"और वह सबकुछ भूल ,भुट्टे के साथ,गोलगप्पे...भेलपूरी सब याद करने लगती.

दिन की शुरुआत तो बड़ी खराब हुई थी पर अंत उतना ही अच्छा रहा...
इसलिए भी कि दिन का अंत अपने ब्लॉग जगत के सभी साथियों को " Happy Friendship Day "  कह कर कर रही हूँ. वैसे तो दोस्ती का कोई ख़ास दिन मुक़र्रर नहीं पर ज़माने के साथ भी चलना है..तो ये रस्म भी क्यूँ ना निभाएं...एक सुन्दर सा मेसेज ,सबकी नज़र है
A quote said by a friend to his best friend after  both got busy in their lives and dnt contact each other..'I MISS UR SMILE ALLOT ......BUT I MISS MY OWN  SMILE EVEN MORE."

32 comments:

  1. रोचक....यानि कि दिन अच्छा ही गुज़ारा ...

    मित्रता का दिन मुबारक हो...

    ReplyDelete
  2. चलिए अंत भला तो सब भला. ab मित्रता दिवस मनाईये .

    ReplyDelete
  3. मित्र-दिवस मुबारक हो. ये दोस्ती ऐसी ही बनी रहे.

    ReplyDelete
  4. काश ऐसा ही दिन हम भी बिता पाते ..... आपसे जलन हो रही है । मित्र दिवस की शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  5. मित्रता का दिन मुबारक हो ! प्रभावी !!लेखन भाई !!
    समय हो तो पढ़ें
    मीडिया में मुस्लिम औरत http://hamzabaan.blogspot.com/2010/07/blog-post_938.html

    ReplyDelete
  6. अरे बाप रे... सारा दिन हमे भी घुमाया ना नाश्ता, ना दोपहर का खाना, बस एक काफ़ी से टरकाया,फ़िल्म भी नही दिखाई:) सच कहुं अगर मुझे ऎसा ऎसा दोस्त मिल जाये तो मै वही भूखा मर जाऊं, या फ़िर भुख के मारे उस नीले साफ़ पानी मे खुद जाऊ, कितनी कंजुस है जी आप् लोग:)
    खुद ना खाती लेकिन एक दुसरे को तो खिला देती:)
    आप की दोस्ती जिन्दा वाद जी

    ReplyDelete
  7. अभी अभी संगीता जी को एही टिप्पणी देकर हटे हैं कि दोस्ती भी कोनो दिन का मोहताज होती है का... या लोग सोचता होगा कि साल का एक दिन दोस्ती मना लो कि अरे बाप रे एक साल अऊर टिक गया ई दोस्ती... दोस्ती न हो गया चप्पल हो गया... खैर ई मजाक था.. आपका रचना में भी आत्मीयता देखाई देता है अऊर बतियाने का अंदाज..आपका दोस्ती सलामत रहे, एही दुअ के साथ, हैप्पी फ्रेंडशिप डे!!

    ReplyDelete
  8. बढ़िया रहा मित्र दिवस.. बधाई एवं शुभकामनाएँ दिवस विशेष की.

    ReplyDelete
  9. हम डर गए. हम तीन घंटे तक फिल्म देखते रहें और बाहर निकले तो पता चला,पूरी मुंबई डूब गयी. एक दूसरे का मुहँ देखा और सर हिलाया, "ना कभी और देखते हैं... इस जगह थोड़ा कन्फ्यूज़न हो गया, इसलिए मुझे कई बार पढ़ना पड़ा. आप "हम डर गए" और "हम तीन घंटे.." वाले वाक्यों के बीच "कि कहीं ऐसा ना हो" डाल दीजिए कन्फ्यूज़न दूर हो जाएगा. आपको भी मित्रता दिवस की शुभकामनाएँ.
    और वो गे कपल को ठीक से देखा क्यों नहीं. देखकर प्रेम के इस रूप के विषय में भी कुछ लिखतीं :-)
    मेरे ख्याल से इसे प्रेम का ही एक रूप मानना चाहिए.

    ReplyDelete
  10. राज भाटिया जी के कमेंट को मेरा भी कमेंट माना जाय....पूरा दिन घुमा के रख दिया..लेकिन खाणं वास्ते कंजूसी कर गए तुस्सी दोवें :)

    Happy frndship day ji.

    ये गे कपल वाला मामला बड़ा लफड़ात्मक है जी....अब तो दो आदमी या दो महिलाएं कहीं पार्क या ऐसे ही किसी स्थान पर साथ साथ बैठे दिख जांए तो पहला शक ऐसे ही किसी लफड़े की ओर ही जाता है:)

    ये समलैंगिकता वाला मुद्दा न जाने कौन कौन गुल खिलाएगा अभी :)

    ReplyDelete
  11. आपको मित्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  12. ये क्या किया आपने ?




    ?


    ?


    ?





    अब मुझे भुट्टे लाना ही होंगे :)

    ReplyDelete
  13. रोचक पोस्ट है।

    मित्रता दिवस मुबारक हो।

    मुम्बई के किस्से, बारिश, शॉपिंग और सीन के किस्से अच्छे लगे।

    पोस्ट पढ़कर मुस्कराते हुये यह सोच रहा था कि कम्युनिकेशन गैप के बाद दोस्तों से बहस करना आपकी फ़ेवरिट हॉबी है। अपने को सही ठहराने के प्रति आपका खूब सारी मेहनत करने का रवैया मनभावन है।

    गे कपल को ध्यान से देखकर उसके बारे में और कुछ लिखना चाहिये था।

    सुबह-सुबह इसे पढ़कर आनन्दित हुये।

    ReplyDelete
  14. dost ko mana liya to sab thik...happy friendship day

    ReplyDelete
  15. यह भी खूब रही ।
    अपने साथ साथ हमें भी घुमा दिया ।
    कभी कभी ऐसा भी होता है ।
    सच में , कभी ऑफ़ दा ट्रेक निकल जाओ , तो बड़ा मज़ा आता है ।
    हैपी फ्रैंडशिप डे ।

    ReplyDelete
  16. @अनूप जी,
    मेरा अनुमान सही निकला मुझे आशा ही नहीं पूरा विश्वास था कि आप इस पोस्ट पर जरूर कमेन्ट करेंगे, और मेरी दोस्त से बहस का जिक्र जरूर करेंगे,वैसे बहस कभी अकेले नहीं होती...सामने वाले को भी उतनी ही रूचि होनी चाहिए....आपका इसे मेरी हॉबी बताने का तरीका भी बहुत मनभावन है :)

    एक बार फिर आपको मित्रता दिवस की ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. बड़ा सुन्दर वाक्या। आज कल मोबाइल ने जहाँ हमारी पहुँच बढ़ा दी है वहीं हमारी लापरवाही भी।

    ReplyDelete
  18. अरे हमें तो मज़ा आया अब तुमने भी तो एन्जाय किया ही ना…………………बेहद रोचक दास्तान रही।

    HAPPY FRIENDSHIP DAY

    कल (2/8/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. हमेशा की तरह ही बहुत ही रोचक संस्मरण ....बारिश मे भीगना और भुट्टे खाना ...जलाती रहो ऐसे ही ...
    मानती तो मैं भी यही हूं कि मित्रता के लिये किसी एक दिवस की क्या आवश्यकता है , मगर विश करने में क्य़ा जाता है ....
    बहुत बधाई और शुभकामनायें...!

    ReplyDelete
  20. पढ़ लिया आज तो बस शुभ मित्र दिवस !

    ReplyDelete
  21. ...."वहाँ धीमी आंच में सिकते भुट्टे मिलते हैं??"और वह सबकुछ भूल ,भुट्टे के साथ,गोलगप्पे...भेलपूरी सब याद करने लगती.

    इससे बढ़िया कुछ नहीं कहा जा सकता.

    ReplyDelete
  22. happy friendship day ji.

    thanks.

    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया.
    धन्यवाद.

    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  24. Mitr jinhe kahti hai duniya..
    Sukh dukh main saati hote..
    Chahe sang main rahte hon ya..
    Chahe door kahin hote..

    Mitrta divas ki hardik shubhkamnayen..

    Deepak..

    ReplyDelete
  25. बिलकुल राज भाटिया जी की तरह आपने मेरे साथ भी किया ...यह कैसी दोस्ती ?? खैर दोस्तों की अपनी अपनी किस्मत है ...मगर वर्णन बहुत अच्छा रहा ! पूरा पढने को मजबूर कर दिया आपने .....
    शुभकामनायें आपकी कंजूस मित्रता को ...

    ReplyDelete
  26. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं!
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    ReplyDelete
  27. 1 कभी-कभी होता है ऐसा भी (गलतफहमी दोनों तरफा होती है)
    2 छतरी से केवल सिर भीगने से बचता है
    3 धीरे-धीरे आदत हो जायेगी (गे कपल चारों ओर दिखेंगें)
    4 आपकी दोस्ती जिन्दाबाद रहे

    प्रणाम

    ReplyDelete
  28. सच में जलन हो रही है आपसे .. वैसे मेरे हिसाब से तो नथिंग वेंट रोंग.क्योंकि दोस्त साथ हों तो मौसम ,भूख वगेरा वगेरह कुछ भी असर नहीं करती..बस मस्ती ही मस्ती .
    और हाँ ...दोस्तों के साथ बहस कर सकने जैसी भी किस्मत सबकी नहीं होती ..ऐसे दोस्त भी तो होने चाहिए ना :)...

    ReplyDelete
  29. हद है, आपकी ये पोस्ट मैंने पहले क्यों नहीं पढ़ी? शनिवार को ही, जब आपने लिखा था ये ...
    खैर,

    पता है यहाँ बैंगलोर में भुट्टे बारह रुपिया का एगो मिलता है...हम तो यही सोचते हैं की यहाँ इत्ता महंगा और पटना में क्या मस्त सस्ता भुट्टा मिलता है :) खतरनाक याद दिला दिया आपने भुट्टे की

    और बारिश में कोफ़ी पीना...वाह, इससे बेहतर और क्या हो सकता है...

    और वैसे एक गे कपल को मैंने भी देखा था यहाँ बैंगलोर में एक सी.सी.डी में :) हा हा

    मस्त मस्त पोस्ट है बिलकुल..

    ReplyDelete
  30. बहुत देर कर दी आने में इसलिए कुछ कहने का कोई मतलब नहीं बनता बात बासी मानी जायेगी.. इसलिए इस रोचक पोस्ट को पढ़ के निकल लेता हूँ..

    ReplyDelete
  31. वाह रश्मि जी क्या खूब लिखा .....
    मस्ती तो अपनी जगह है आपके तो शब्दों से भी मस्ती झलकती है ....
    सच आपकी लेखनी बांधे रखती है पाठक को .....
    कुछ जुमले बेहद ही आकर्षक लगे......

    @थोड़ा रुक कर इन्बौक्स से ढूंढ अच्छे अच्छे दोस्ती के मेसेज भेजे एक दूसरे को और बारह बजते बजते हमलोग एक दूसरे से बात करते हंस रहें थे....
    @ पर नज़र जिद्दी बच्चे सी बार बार उधर ही लौट जाती.आखिर कार हमने नज़रों को सिगड़ी में सिकते भुट्टो का लालच दिया और कोशिश कामयाब हुई....
    @और मैं कहती.."वहाँ धीमी आंच में सिकते भुट्टे मिलते हैं??

    friendship par ik achha sa msg meri taraf se ......

    Making a million friends is not a miracle,the miracle is to make a friend who will stand by you when millions are against you.

    ReplyDelete

लाहुल स्पीती यात्रा वृत्तांत -- 6 (रोहतांग पास, मनाली )

मनाली का रास्ता भी खराब और मूड उस से ज्यादा खराब . पक्की सडक तो देखने को भी नहीं थी .बहुत दूर तक बस पत्थरों भरा कच्चा  रास्ता. दो जगह ...