Friday, April 9, 2021

भारतीय घरों का सच दिखाती फिल्म : The great indian kitchen


 The great indian kitchen फिल्म देखते हुए कई चेहरों का आँखों के समक्ष आ जाना लाज़मी है। हर मध्यमवर्गीय भारतीय महिला अपनी जिंदगी में कभी न कभी इन अनुभवों से गुजरती है। भारत के किसी भी प्रदेश की रसोई हो। त्योहारों पर बनने वाले सुस्वादु व्यंजन को दरकिनार कर दें तब भी रोज के खाने में भी बहुत मेहनत लगती है। पीसना,तलना, भूनना और ये सारी मेहनत स्त्री के हिस्से ही आती है। उस पर से पुरुषों के नखरे ,चटनी सिलबट्टे पर पिसी होनी चाहिए, चावल कुकर में नहीं,पानी में उबाल कर बनाये जाएं। पुरुष किसी भी प्रदेश में जाकर बस जाएँ पर उनकी जीभ पर पारंपरिक स्वाद का असर बना रहता है . शुरू के दृश्यों में ही अप्पम, इडियप्पम, पुट्टू,डोसा-सांभर, उबले केले,टोपियोको, केले के चिप्स छनते देख पता कल जाता है,यह केरल की रसोई है.

सुबह से घर की महिलाएं रसोई में लग जाती हैं और पुरुष जूठे चाय का कप भी सिंक में नहीं रखते।टेबल पर सांभर से निकाले सहजन भी चबा कर थाली के बगल में छोड़ देते हैं। जूठी प्लेटें और टेबल पर से जूठन उठाते उबकाई आ जाए. पर घर की स्त्रियाँ चेहरे पर बिना शिकन लाए जूठन उठाती हैं. ससुर जी के जूते भी सास सामने लाकर रखती है। और ससुर गर्व से बहू से कहते हैं, 'मेरी पत्नी एम.ए. पास है फिर भी अपने पिता के कहने पर उसे नौकरी नहीं करने दी' ।जबकि सास बहू से कहती हैं, 'तुम अप्लाई कर दो, सेलेक्ट हो जाने के बाद बात की जाएगी।'
नायिका लकड़ी के चूल्हे पर चावल बनाते, गैस पर साम्भर पकाते हुए टेबल पर रखे लैपटॉप पर नौकरी के आवेदन भी टाइप करती जाती है.
फ़िल्म में पीरियड आने पर किये जाने वाले छुआछूत पर भी विस्तार से चर्चा है। जब पीरियड आने पर नायिका को हर काम की मनाही हो जाती है और वो आराम से मोबाइल देखती रहती है, किताब पढ़ती रहती है तो मुझे एक पल को लगा, इस दिन-रात की मेहनत से कुछ दिनों के लिए बचाव अच्छा ही है।पर स्त्रियों को ऐसे समय में आराम देने की सोच नहीं बल्कि उन्हें हीन दिखाने की मंशा होती है। लड़की की बुआ सास आती है और उसे एक छोटे से कमरे में एक दरी बिछाकर सोने ,किसी के सामने न आने ,अपनी प्लेट धोकर अलग रखने के लिए कहती है। स्कूटर से गिरे पति को उठाने जाती है तब भी उसे झिड़की मिलती है,उसने पति को छू कैसे दिया ? पति साबरी मलाई की यात्रा पर जाने वाला था। पंडित उसे पत्नी के छू लेने पर शुद्ध होने का उपाय बताते हैं , 'गाय का गोबर खाना पड़ेगा या गोमूत्र पीना पड़ेगा फिर कहते हैं, नदी में डुबकी लगा लो तब भी शुद्धि हो जाएगी'। यानी पुरुष की सुविधा के लिए आसानी से नियम में परिवर्तन कर दिए जाते हैं।
मेरे पास केरल की एक लड़की पेंटिंग सीखने आती थी। उसने एक दिन आक्रोश में बताया, 'पता है, मेरा पति कहता है, पीरियड आने पर जमीन पर सोया करो ,मैं ब्राह्मण हूँ '। उस लड़की ने गुस्से में आगे कहा ,'और मैं क्या हूँ...पांच दिनों के लिए मेरी जाति चली जाती है ?' एक दिन उसने पति से सैनिटरी नैपकिन लाने को कहा तो पति ने कहा, "मैं पूजा-पाठ वाला आदमी हूँ,मुझसे ये सब मत मंगवाया करो।" पति आई आई टी से पढ़ा एक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत था। फ़िल्म में भी नायिका अपने पति से सैनिटरी नैपकिन लाने के लिए कहती है ,उसके पति को नागवार तो गुजरता है पर शुक्र है, वो कुछ कहता नहीं।
इस फ़िल्म का एक दृश्य बहुत महत्वपूर्ण है। नायिका मायके आई हुई है। उसका छोटा भाई बाहर से आता है, एक ग्लास पानी मांगता है। माँ दूसरी बहन से पानी लाने के लिए कहती है, और नायिका बिफर जाती है, "तू खुद से एक ग्लास पानी नहीं ले सकता ?" पहले शायद उसे भी ये बड़ी बात नहीं लगती हो पर ससुराल में पुरुषों का बिलकुल ही काम न करना और स्त्रियों से सारे काम की अपेक्षा ने नायिका का ध्यान अपने मायके में लडके-लडकी के बीच होते भेदभाव की तरफ खींचा. शुरुआत ऐसे ही होती है, एक ग्लास पानी ला दो, खाना लगा दो, बिस्तर बिछा दो और लडकों को अपना काम भी करने की आदत नहीं पडती. आम मध्यमवर्गीय माँओं की तरह माँ नायिका को माफ़ी मांग लेने और अडजस्ट करने की सलाह देती है.
फ़िल्म में किचन का सिंक टपकता रहता है।नायिका उसके नीचे बाल्टी लगाकर रखती है और फिर गंदा पानी उठाकर बाहर फेंकती है। पति से कहकर थक जाती है,वे बड़ी सुविधा से भूल जाते हैं। नायिका का बार बार गंदे पानी से भरी बाल्टी फेंकना और पोंछा लगाते रहना उन्हें बड़ी बात लगती ही नहीं क्यूंकि उन्हें तो टेबल पर खाना परस कर मिल जाता है, धुले कपड़े मिल जाते हैं.
अंत में नायिका वही गंदा पानी ससुर और पति के चेहरे पर फेंक देती है और घर छोडकर चली आती है. पर उन्हें क्या, उन्हें तो एक दूसरी लडकी मिल जाती है जो शादी के बाद उसी तरह उनके जूते बर्तन उठाती है...और बिना चेहरे पर शिकन लाए घर के सारे काम करती है.

फिल्म में बीफ (गौ-मांस) का भी कई बार जिक्र है. बहुत लोगों को ज्ञात नहीं है कि केरल के हिन्दू जो बहुत पूजा-पाठ करते हैं, मंदिर जाते हैं, सुबह तुलसी में जल देते हैं , शाम को दिया जलाते हैं. उनके खान-पान में बीफ सामान्य रूप से शामिल है.

फिल्म की लोकेशन और कलाकारों के अभिनय बहुत सहज और सच्चे लगते हैं। अगर इसका हिंदी रीमेक बना तो फ़िल्म कुछ अलग ही नज़र आएगी। एक बात और ध्यान देने वाली है, केरल में सर पर पल्ला या घूंघट का रिवाज नहीं है। नायिका सलवार सूट तो पहनती है पर दुपट्टा कभी नहीं लेती।उत्तरभारतीय घरों में तो सारा काम करते, सर पर दुपट्टा और पल्ला सम्भालते स्त्रियाँ परेशान होती रहती हैं।
The great indian kitchen में महिला को सुबह से शाम तक किचन में खटते दिखाया जाता है। कभी जो कोई फ़िल्म The great indian house पर बनी तो फिर दिखाना पड़ेगा, सुबह महिला किचन में काम करती है, बच्चों को स्कूल छोड़ने-लाने जाती है, सब्जी-राशन लाती है। बच्चों को डॉक्टर के पास ,उनके स्कूल के पी.टी.एम., स्पोर्ट्स डे, एनुअल डे, अटेंड करती है। घर में मेहमानों की आवाभगत, उन्हें घुमाना-फिराना, बीमार सास-ससुर की सेवा सब महिला के जिम्मे। महानगर में पुरुषों की मजबूरी होती है, सुबह के गए, देर रात गए लौटते हैं।अक्सर प्राइवेट नौकरी होती है,छुट्टी नहीं ले पाते। यहाँ पुरुष विलेन नहीं मजबूर होते हैं।पर इनमें ही जो पुरूष स्वभाव से क्रूर होते हैं पत्नी के इतना कुछ करने के बाद भी उसे गालियों और नीले-काले निशान से भी नवाजते हैं।

नौकरी वाली महिलाओं की गाथा तो और भी साहस भरी, सुबह चार बजे उठकर ,रात ग्यारह बजे तक घर-दफ्तर सब सम्भालती हैं।

खैर, इन सब पर फ़िल्म जब बनेगी तब देखी जाएगी।फिलहाल तो अमेज़न प्राइम पर The great indian kitchen देख लीजिए (खासकर सभी पुरुष )। भाषा मलयालम है,अगर इंग्लिश सबटाइटिल्स पढ़ने में मुश्किल हो तब भी आराम से देखी जा सकती है। समझने में कोई कठिनाई नहीं होगी।

Thursday, February 18, 2021

प्रवासी पक्षी : खंजन

 


जानि सरद रितु खंजन आए।

पाइ समय जिमि सुकृत सुहाए।।’’

पंछियों की दुनिया में रूचि लेने से पहले ही इस 'खंजन' पक्षी से परिचित थी. माँ को रामायण की बहुत सारी चौपाइयां कंठस्थ हैं और गाँव में कभी इस पक्षी को दिखाकर उन्होंने ये चौपाई कही थी. हमारे गाँव में इसे खिर्लीच कहा जाता है. तभी से इस पक्षी की पहचान हो गई थी .पर कभी गहराई से नहीं सोचा था कि ऐसा क्यूँ कहते हैं कि खंजन को देख कर समझ जाना चाहिए कि शरद ऋतु आने वाली है.

सहस्त्रों वर्षों से ये पंछी हज़ारों किलोमीटर की दूरी तय कर सर्दियों में बर्फीले प्रदेशों से हमारे यहाँ आते हैं. और गर्मी आते ही अपने देश लौट जाते हैं. गर्मियों में ही ये अपने देश में प्रजनन और बच्चों की देखभाल करते हैं. उन प्रदेशों में यह पंछी गौरैया की तरह ही आम है पर हमें इनके दर्शन शरद ऋतु में ही होते हैं. इनकी पूंछ हमेशा हिलती रहती है इसीलिए अंग्रेजी में इसे wagtail कहते हैं. ये अलग अलग रंगों के होते हैं. सफेद-सलेटी-पीला .मैंने सफेद वाला खंजन ही देखा था. पहली बार पीले रंग के गले और वक्ष वाला खंजन देखा.
नवंबर-दिसम्बर से ही अन्य प्रदेशों के पक्षी-प्रेमी खंजन की तस्वीर लगाने लगे थे. पर मुंबई में मुझे ये पंछी नजर नहीं आ रहे थे .अब तो सर्दी उतार पर है.मैंने आशा ही छोड़ दी थी कि आज सुबह दूर से एक छोटा सा पंछी नजर आया जिसकी पूंछ लगातार हिल रही थी . मैं समझ गई, आज मेरा लकी डे है 🙂. नई जगह पर कुछ कुछ भूला सा, देर तक चुपचाप बैठा यह इधर उधर देख रहा था 💛💛 .
इस पंछी से सम्बन्धित एक जिज्ञासा और थी . आँखों की सुन्दरता की उपमा खंजन नयन से दी जाती है .तुलसीदास ने भी सीता जी के आँखों की तुलना खंजन से की है.
सूरदास ने कृष्ण जी के रूप का बखान करते हुए कहा


खंजन नैन रूप रस माते।
अतिसय चारू चपल अनियारे, पल पिंजरा न समाते।
लेकिन खंजन पक्षी की आँखें बहुत खास नहीं होतीं।ज्यादातर पक्षियों की तरह ही सामान्य सी होती हैं
शायद खंजन पक्षी के आकार की तुलना आँखों से की गई है. अगर दो खंजन पास पास हों तो दो सुंदर नयनों से लगेंगे.



























Sunday, January 17, 2021

दोस्ती की भावना से भरा पंछी 'मैगपाई रॉबिन ' Magpie Robin

 सफेद और काले रंग का ये सुंदर सा पंछी ' मैगपाई रॉबिन ' बहुत खूबसूरत लगता है. यह बहुत जल्दी दोस्ती कर लेता है .दोस्ती यानी आप पर भरोसा कर लेता है कि उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा. सुबह मेरे कमरे की खिड़की खुलने से पहले यह आवाजें लगाता है.और शाम को खिड़की बंद होने पर भी मानो डांटता है कि इतनी जल्दी क्यों बंद कर लिया. :)  कई बार खिड़की से कूदकर घर के अंदर भी आ जाता है. अगर मैं बहुत देर तक खिड़की के पास ना जाऊं तो अपनी सुरीली आवाज़ में इतनी टेर लगाता है कि सागर कह उठती है, 'भाभी  जाओ ,अपना चेहरा दिखा कर आ जाओ "उसे भी झिड़कती है, 'रुक आ रहीं हैं :) '

 अगर मैं खिड़की पर खड़ी हूँ और रॉबिन  सामने वाले पेड़ की डाल पर बैठा हो तो उड़ कर खिड़की पर आ कर बैठ जायेगा . उड़ते हुए उसके काले-सफेद पंख इतने सुंदर लगते हैं कि मैं मुग्ध हो देखती रह जाती हूँ, वीडियो लेना भूल जाती हूँ.मेरे बच्चे भी  मुझे देखकर, हर बार इस तरह दौड़ कर नहीं आयें होंगे. अगर मैं खिड़की पर हाथ टिका कर बैठूं तो बिलकुल कुहनी के पास बैठ जाएगा, ज़रा भी नहीं डरता 😊

नर-रॉबिन के सर-चोंच-वक्ष और पंख चमकते हुए काले रंग के होते हैं. पेट सफेद होता है और पंख पर सफेद धारियां होती हैं जो बहुत सुंदर लगती हैं. मादा-रॉबिन के सर-चोंच-वक्ष और पंख धूसर रंग के होते हैं.नर की तरह ही पेट सफेद और पंख पर सफेद धारियां होती हैं. मादा-रॉबिन बहुत शांत दिखती है. एक ही जगह पर देर तक बैठी रहती है. इनसे  ही शिकायत  है, नर और मादा कभी साथ साथ बैठे नहीं दिखते .इनकी ऐसी एक भी तस्वीर नहीं ले पाई हूँ. वैसे भी बुलबुल-तोता-गौरया=मैना-कबूतर की तरह ये झुण्ड में नहीं रहते. कभी कभी ही दो रॉबिन साथ में दिखते हैं.

रॉबिन की इन आदतों के विषय में अपूर्व को बता रही थी तो उसने बताया, “डबलिन में भी रॉबिन बहुत दिखते हैं . (रॉबिन की अलग किस्म ).ग्रैंडपा (मकान-मालिक) इनकी एक स्टोरी सुनाते हैं “ . मुझे वो कहानी सुनने की इच्छा थी पर हमेशा ह्मारी बात किसी और तरफ मुड जाती. एक रोज मैंने कहा, “पहले रॉबिन की कहानी सुनाओ, फिर आगे दूसरी बात होगी “

“हाँ सुनाता हूँ...ग्रैंडपा बताते हैं, अगर लॉन में अकेले टहल रहे हो तो रॉबिन पास में आ जाएगा .पार्क में भी अकेले देख,उडकर पास आ जाता है , बहुत फ्रेंडली होता है “

“कहानी तो सुनाओ...”
“यही कहानी थी...”

ये कहानी थी या इन्सटाग्राम स्टोरी :) ....मुझे लगा था रॉबिन से जुड़ा कोई किस्सा होगा. :D














 

भारतीय घरों का सच दिखाती फिल्म : The great indian kitchen

  The great indian kitchen फिल्म देखते हुए कई चेहरों का आँखों के समक्ष आ जाना लाज़मी है। हर मध्यमवर्गीय भारतीय महिला अपनी जिंदगी में कभी न कभ...