Saturday, December 29, 2012

बस ये आक्रोश....ये संवेदनशीलता जाया न होने पाए

हमारा देश आक्रोश, अविश्वास, बेबसी   की आंच से सुलग  रहा है। व्यवस्था के प्रति ये क्रोध हर तबके के लोगों में है पर युवाओं में ज्यादा मुखर है। सही भी है,  देश की पतवार उनके हाथों में हैं शायद उनके हाथ ही सही दिशा में ले जाएँ। 

आज निर्भया हम सबसे दूर चली गयी है पर हमारे  ह्रदय में उसने हमेशा के लिए साहस, प्रेरणा की लौ जला  दी है, जो कभी बुझने वाली नहीं।निर्भया ने जिस हिम्मत से उन छः  नर-पिशाचों का सामना किया , भले ही उसके शरीर के चिथड़े कर दिए गए पर उसने आत्मसमर्पण नहीं किया . उसके इसी साहस ने सबकी आत्मा को झिंझोड़ दिया है। ज़रा सी बात पर हम लोग निराश हो जाते हैं, हिम्मत हार जाते हैं और यहाँ एक लड़की, अपने शरीर पर भीषण अत्याचार सहती रही पर हार नहीं मानी,अंत तक लडती रही। 
हर युवा की संवेदनशीलता को इस घटना ने गहरे तक छुआ  है।

आज इस काले शनिवार के दिन ही दो संवेदनशील युवाओं की प्रतिक्रियायें मिली एक तो मेरी पिछली पोस्ट पर  summary  (इनका नाम  नहीं पता, ब्लॉग आइ डी यही है ) की प्रतिक्रिया जो आक्रोश से भरी हुई है।
summary के शब्द हम सबके मन की भावनाएं व्यक्त करते हैं।

चलो , न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी .....कम से कम हमारी इटैलियन मेम (सोनिया गांधी ) तो यही सोच रही होंगी . मैडम शीला दिक्षित बहुत हिम्मत वाली महिला हैं . मिलने नहीं गयीं लड़की से पर आज सुबह उनकी फोटो  अखबार में कैंडल जलाते हुए . इस वर्ष कई मंत्रियों ने अपने बोल्ड विचार व्यक्त किये विभिन्न विषयों पे। पिछले  2 हफ़्तों में कई बुद्धिजीवियों ने स्त्रियों के मानक बताये .
क्या करना चाहिए , क्या नहीं ... बाहर जाना चाहिए तो कैसे .. कपडे पहनने चाहिए तो कैसे ... कुछ ने कहा ... लड्कियूं को फिल्म नहीं देखनी चाहिए ... जीन्स पहनने से वे लड़कों को उकसाती हैं .
रात 6 बजे के बाद घर से बहार नहीं निकलना चाहिए ... 1 महिला वैज्ञानिक ने तो यहाँ तक बोला कि  'दामिनी'/निर्भया ' ने उन लोगों को उकसाया . वो रात को 10 बजे पिक्चर देखने क्यूँ निकली ?
अच्छी बात है ... तो फिर ये लोक्तंत्र का बाजा क्यूँ ? चुनाव क्यूँ ? खाड़ी देशों के तरह .. महिलायों को घर में बिठा कर रखो ... 5 क्लास के बाद नज़रबंद कर दो ... जो मार काट के गद्दी पे बैठ जाये वो PM . क्यूँ कल्पना चावला सुनीता विल्लिअम्स का example देते हो ...वे दोनों यहाँ से निकल गयीं तो कुछ कर दिखाया ..वर्ना यहाँ ..double standard politics mentality का शिकार बन चुकी होतीं ....क्यूँ कहते हो ..उन्हें भारत की मूल नागरिक ? इस हिसाब से तो उन्होंने भारत की नाक कटा दी .. जीन्स पहन के ......अमेरिकी क्यूँ लड़कियों को j जींस पहने देख उत्तेजित नहीं होते ..वे नामर्द हैं क्या ? सारे मर्द यहाँ भारत वर्ष में पैदा हुए ... दु:शाशन से लेकर गोपाल कांडा तक ......
we don't want insensible , incapable and careless government . Its pity that when whole nation was expecting some quick , strict action from gov that time gov acted as a silent spectator without having any strategy to deal with the situation. RIP my little sister. we are sorry .

एक संवेदनशील युवा लड़के ने बहुत व्यथित होकर एक कहानी सा लिखा है। 
कहानी अंग्रेजी में है,जिसका हिंदी अनुवाद यहाँ है 
" एक सफ़ेद रंग की कार 'भारत माता चौक' के पास एक मिनट के लिए रुकी . फिर तुरंत आँखों से ओझल हो गयी। कार  से एक मैले-कुचैले चादर में लिपटी एक आकृति सड़क के किनारे धकेल दी गयी थी। उसकी मैली चादर पर नज़र पड़ते ही उसे रास्ते में रहने वाली भिखारिन समझ लोग आगे बढ़ जाते।
एक कीमती साडी में एक औरत अपने बच्चे को गोद में लिए उसके पास से गुजर रही थी। उस आकृति ने उस औरत की साडी पकड़ कर खींचना चाहा  . उस औरत  ने उसे जोर से झिड़क दिया और आगे बढ़ गयी। सौ के करीब लोग उसके पास से गुजरे, उसमे से दस लोगो ने उसकी तरफ देखा भी पर किसी ने नोटिस नहीं लिया।

सड़क के पार से एक जोड़ी मूक आँखें उस आकृति को घूर रही थीं। 'यह कुछ अलग सा क्या है ? " उन मूक आँखों में ये भाव कौंधे , तब तक वो आकृति कितने ही लोगो के पैर , उनकी पेंट  के पायंचे, साडी का किनारा खींच  कर अपनी तरफ उनका ध्यान आकृष्ट करने की कोशिश कर रही थी। पर लोग उसका हाथ झटक कर आगे बढ़ जाते। एक जोड़ी मूक आँखें उसे घूरती रहीं, फिर धीरे से उसके कान खड़े  हो गए और वह अपनी दुम  हिलाता उठ खड़ा हुआ।उस चादर में लिपटी आकृति की तरफ देख कर भौंकने लगा। फिर भी किसी ने ध्यान नहीं दिया। अब वह अपने छोटे छोटे पैरों से  सड़क को पार कर उस आकृति के पास जाकर भौंकने लगा . हर गुजरते कदमों के साथ उसके भौंकने की आवाज़ बढती जा रही थी। उसकी आवाज़ से कुछ लोगों ने डर  कर अपने कदमों की गति तेज कर दी पर भौंकने की वजह पर ध्यान नहीं दिया। 
अब वह कुत्ता सड़क पर आगे-पीछे भागते हुए भौंकने लगा। कुछ लोगो ने उसे छोटे छोटे पत्थर और पानी की बोतल फेंक कर मारा । उसने एक आदमी का पैंट पकड़ कर खींचा तो उस आदमी ने बगल से एक लाठी उठा कर उसे दे मारा। पर वह कुत्ता फिर भी नहीं हटा, उस आकृति के पास जाकर भौंकने लगा। उस आकृति की पनीली आँखें उस कुत्ते के आँखों से मिलीं और उसका भौंकना पंचम सुर तक पहुँच गया . अब वह हर आने-जाने वाले के कपडे पकड़ कर खींचने लगा। एक छोटी सी भीड़ उस कुत्ते के पास जमा हो गयी और लोग उस कुत्ते को पागल समझ कर उसके  ऊपर पत्थर फेंकने और उसे  लाठी से मारने लगे। फिर भी लोगो का ध्यान उस मैली कुचैली आकृति पर नहीं गया जिसके लिए वह कुत्ता भौंक रहा था .
कुत्ते को पागल समझकर दो भिखारी जैसे लोग उस सड़क की दूसरी तरफ जाने  लगे और उस आकृति को भी अपने साथ चलने के लिए उसकी चादर पकड़ कर खींचा । चादर खींचते ही वह आकृति लुढ़क पड़ी ,लोगो ने देखा वह एक लड़की थी,जिसके  कपडे फटे हुए थे और वह खून से लथपथ थी।
 भीड़ में से किसी ने नंबर डायल किया 101 और पता बताया ,'भारत माता चौक ' 
थोड़ी ही देर में पुलिस वैन आकर लड़की को ले गयी .लड़की ने दो दिन बाद अस्पताल में दम तोड़ दिया। लगातार भौंकने की वजह से पत्थर और लाठियां खा कर कुत्ता पहले ही मर  चुका  था।
 पुलिस को इतनी तत्परता से लड़की को अस्पताल पहुंचाने के लिए राज्य की तरफ से पुरस्कृत किया गया।

Sunday, December 23, 2012

किसे सुनाएँ हाल-ए-दिल...नज़र और जुबां पे सबके ताले पड़े हुए हैं

दिल्ली में घटी उस शर्मनाक घटना पर फेसबुक मेरी त्वरित प्रतिक्रिया थी,
"दिल्ली में वहशीपन की इस घटना पर सबका खून खौल रहा है .पर सिर्फ खून खौलने की नहीं, खून का ये उबाल बनाए रखने की जरूरत है, जब तक ऐसी घटनाएं बंद न हो जाएँ;.
दोषियों को सजा न मिल जाए और लडकियां अपने आप को सुरक्षित न महसूस करने लगें।
ये नहीं कि कुछ दिनों में हम इसे भूल जाएँ और फिर किसी अगली खबर का इंतज़ार हो। "

सबसे ज्यादा इस बात का डर था कि  सबका गुस्सा पानी के बुलबुले सा बैठ न जाए। 
पर संतोष है कि ये उबाल  एक जलता ज्वालामुखी बन गया है, जिस से दहकता लावा निकलता ही जा रहा है। 
सही भी है, पता नहीं कितने दिनों का जमा आक्रोश है, यह।  रोज ही ऐसी ख़बरें सुनने  को मिलती हैं और गुस्से में बेबसी से मुट्ठियाँ  भिंच  कर रह जाती हैं। 
पर अब और नहीं, आज हर वर्ग के युवक-युवतियां आक्रोशित हैं, उस पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए कटिबद्ध हैं और ऐसी व्यवस्था चाहते हैं कि आगे चलकर ऐसी घटनाएँ न हों, महिलायें सड़कों पर खुद को सुरक्षित महसूस कर सकें। 
बस इतनी सी उनकी मांगें, इतनी सी उनकी चिंता और हमारे प्रशासकों, देश के संचालकों के पास उन्हें आश्वस्त करने के लिए दो शब्द भी नहीं ??
जिनके हाथों में शासन की बागडोर है ,क्या उन्हें ये सब मजाक लग रहा है ? सिर्फ बच्चों का ऊधम  लग रहा है जो इसे पूरी तरह नज़रंदाज़ कर अपने सुरक्षित कमरे में बैठकर चाय के सिप के साथ राजनीति की गोटियाँ बिठाने में व्यस्त हैं ??

अगर घर के  किसी बच्चे या बच्चों को कोई बात गलत लगती है और वे अपना आक्रोश जताते हैं तो 'घर के  बड़े उनकी पीठ सहलाते हैं, उन्हें आश्वस्त करते हैं, उन्हें दिलासा देते हैं कि अब ऐसा नहीं होगा और वे इसे सुधारने की पूरी कोशिश करेंगे।'
इन मंत्रियों, शीला दीक्षित, सुशील कुमार शिंदे ,सोनिया गांधी हमारे मूक बधिर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति इन सबसे इतनी सी ही अपेक्षा थी कि वे इस जनसमूह को दिलासा देते और प्रॉमिस करते कि "एक निश्चित अवधि के अन्दर उन दोषियों को सजा मिलेगी। वे क़ानून ,व्यवस्था इतनी कड़ी कर देंगे कि रेप जैसे दुष्कर्म करने से पहले दुष्कर्मियों  रूह काँप जायेगी। लडकियां  खुद को सुरक्षित महसूस करेंगी।" 
ये सब क्या इतना कठिन कार्य है? जिसे कार्यान्वित करने का आत्मविश्वास उनके पास नहीं है। ये क्या गरीबी हटाने और बेरोजगारी दूर करने जैसी माँगें  हैं, जिनके लिए उन्हें योजनायें बनानी है, समय लेना है। 
ये sheer apathy है सिर्फ उदासीनता, सिरे से नज़रंदाज़ करना और इस मुद्दे को अहमियत नहीं देना। क्यूंकि ये लोग उनके वोट बैंक नहीं हैं। आज अगर ये सारे नेता इन युवाओं का साथ भी दे दें तो उन्हे पता है  
इन युवाओं की अपनी सोच है, जरूरी नहीं कि उन्हें ये वोट दें। यहाँ हर वर्ग के युवा थे, जाति ,अल्पसंख्यक का भेदभाव नहीं था, इसलिए इन राजनीतिज्ञों की रूचि भी नहीं रही होगी। 

पर एक बार चुनाव जीत कर जब शासन की बागडोर हाथ में ले ली फिर तो वे परिवार के मुखिया से हो गए। युवाओं के इस आन्दोलन में वे उनके बीच आते, युवाओं से दो बाते करते, टी वी  के माध्यम से ही उन्हें सन्देश देते .उनके साथ बने रहते तो उनकी संवेदनशीलता भी जाहिर होती। पर उन्हें परवाह ही नहीं है। बल्कि आन्दोलन के दुसरे दिन तो पुलिस को जिस तरह आंसू गैस, लाठी चार्ज , पानी की बौछार करने के निर्देश दिए गए ,यह किसी कठोर शासक की तानाशाही जैसा रवैया ही था . शांतिपूर्वक अपनी बात कहने का भी हक़ नहीं। आपको वोट देकर जिताया गया, शासन की बागडोर सौंपी गयी। पर अब आपका जैसा मन हो व्यवस्था चलायें . कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ती रहें, गरीबी ,महंगाई,बेरोजगारी दूर करना  तो दूर, एक सुरक्षित माहौल तक भी नहीं दिया जा सकता। जनता को सिर्फ सहना है, वो मुहं नहीं खोल सकती। और मुहं खोलने की जुर्रत की तो फिर उसे बंद करवाने के कई तरीके आजमाए जायेंगे। पुलिस बल, जनता की रक्षा के लिए नहीं , वह नेताओं की शान बढाने के लिए है . एक राजनीतिज्ञ की सुरक्षा के लिए तीन पुलिसकर्मी नियुक्त हैं, जबकि 700 आम जनता के लिए मात्र एक पुलिसकर्मी। कमाल का जनतंत्र है। 

प्रधानमंत्री 'मनमोहन सिंह' और राष्ट्रपति 'प्रणव मुखर्जी' ने तो मुहं नहीं खोले . वे भावहीन चेहरा लिए लिखी लिखाई स्पीच पढेंगे 'राष्ट्र के नाम सन्देश ' . (आज सुबह पढ़ा भी और जनता को ज्ञान दिया कि 'हिंसा किसी समस्या का हल नहीं।' मूक बधिर तो वे थे ही अब क्या नेत्रहीन भी हो गए कि उन्हें दिखाई नहीं दिया , जनता तो शांतिपूर्वक बैठी थी, पर उनपर आंसू गैस के गोले छोड़े गए और पानी की बौछार की गयी और लाठी चार्ज भी ) राष्ट्र के जनता की क्या फिकर करनी? चुनाव सन्निकट होगा, तो अपने वोटबैंक को संबोधित किया जाएगा, उन्हें झूठे आश्वासन दिए जायेंगे।   शीला दीक्षित ने मुहं खोला  भी तो अपने फायदे के लिए, 'दिल्ली पुलिस' पर दोष लगा, खुद को बरी करने की कोशिश। केंद्र में सरकार क्या उनकी पार्टी की नहीं है ?? वे गृहमन्त्री से बात नहीं कर सकती ? शीला  के एक और बयान ने हैरान किया, वे बरखा दत्त को दिए इंटरव्यू में कह रही थीं, "उन्हें पीडिता को देखने की हिम्मत नहीं है, उसके माता -पिता से मिलने की हिम्मत नहीं है,वे रो पड़ेंगी . डा नर्स उस लड़की का अच्छा ख्याल रख रहे हैं। वे उनसे हालचाल पूछ कर संतुष्ट हो जाती हैं। " यही बातें इनकी मानसिकता दर्शाती हैं। उनके राज्य में ये जघन्य घटना घटी है और वे इसकी जिम्मेवारी नहीं लेना चाहतीं। उनके पास कहने के लिए दो शब्द भी नहीं ? क्या उनके परिवार में किसी के साथ कोई दुर्घटना घटे तो वे बस डा. से हालचाल पूछ कर रह जायेंगी ? कोई भी आपदा आने पर हर देश के मुखिया, अस्पताल में जाकर पीड़ितों का हालचाल पूछते हैं, तो क्या वे असंवेदनशील हैं ?? और शीला दीक्षित  खुद को इतना संवेदनशील समझती हैं कि  उन्हें रो पड़ने का डर  है? तो रो पड़तीं , बेहोशी में भी उस पीडिता की आँखों में आंसू थे, कैसा मर्मान्तक कष्ट झेला  था उसने। 

हमारे प्रधानमन्त्री गृहमंत्री सब ये राग अलाप रहे हैं कि 'हम इनका दुःख समझते हैं हमारी भी तीन बेटियाँ है। " किसी का दुःख समझने के लिए बेटियों के माँ -बाप होना जरूरी नहीं , एक संवेदनशील ह्रदय होना चाहिए।  मेरे सहित कई लोगों के सिर्फ बेटे हैं तो क्या उनका मन आहत नहीं है? उन्हें इनका दुःख महसूस नहीं हो रहा?  इन सबके ,इतने हास्यास्पद बयान ये जाहिर कर रहे हैं कि ऐसी स्थितियों से निबटने के लिए हमारे नेता सक्षम नहीं हैं। वे सिर्फ लिखी लिखाई स्पीच पढने और जलसों में फूल और शॉल  ग्रहण करने के योग्य हैं। 

इस घटना पर बहुत लोग ज्ञान  बघार रहे हैं। शबाना आज़मी कह रही हैं, 'दोषियों को सजा देना समस्या का हल नहीं है बल्कि उन्हें समाज से बहिष्कृत कर देना चाहिए, उसे कोई  नौकरी न मिले,वो समाज में सर उठा कर न चल सके आदि आदि।' पता नहीं किस लोक की वासी हैं वे, उन्हें हमारे देश के व्यवस्था का पता ही नहीं। इतनी बड़ी जनसँख्या और इतने कम पुलिस बल, कौन उन पर नज़र रख पायेगा ? एक और बुद्धिजीवी महिला ने शबाना आज़मी की इस बात मेरे ऐतराज करने पर फेसबुक पर लिखा कि 'अगर कठोर सजा जैसे फांसी जैसी सजा दी जायेगी तो हमारे चाचा, भाई,पिता, दोस्त, पडोसी सब इस सजा के लिए पंक्तिबद्ध पाए जायेंगे, इसलिए शबाना आज़मी की सलाह मानी जाने चाहिए ।' 
तो इसलिए कि समाज में हमारे अपने भी ऐसा घृणित दुष्कर्म कर रहे हैं, हम कठोरतम सजा की अपेक्षा न करें? ये सही है, कठोरतम सजा के प्रावधान से अपराध ख़त्म नहीं हो जाते पर कम जरूर हो जाते हैं। आज ड्रंक ड्राइविंग , कार चलते वक़्त मोबाइल पर बातें करना आदि जैसी गलतियों के लिए सख्त सजा का प्रावधान है और काफी कमी आयी है, लोगों की ऐसी हरकतों में। पहले ही सोच लेना कि 'सात साल सश्रम कारावास की सजा' ही बहुत है, जबकि एक लड़की की पूरी ज़िन्दगी पर असर पड़ता है . उसका पूरा व्यक्तित्व बदल जाता है। उसे एक नॉर्मल रिलेशनशिप निभाने में कठिनाई आती है तो क्या यह उसके व्यक्तित्व की ह्त्या नहीं है ?? जरूरी है कि इस दुष्कर्म को गंभीरतम अपराध के रूप में लिया जाए ताकि रूह काँप जाए किसी की ऐसा अपराध करते। जब देश की राजधानी में इसके खिलाफ आन्दोलन चल रहे थे। मुंबई में नेपाल से अपने पति को ढूँढने आयी एक लड़की की मदद करने के बहाने उसके पति के तीन मित्रों ने अलग अलग जगह ले जाकर उसका रेप किया। ऐसा वे बस इसलिए कर पाए कि उन्हें पता है, पहले तो अपराध साबित ही नहीं होगा और साबित हो गया तब भी वे जल्द ही जेल से छूट जायेंगे। लोगो में एक भीषण डर  पैदा करने की बहुत जरूरत है और ऐसा तभी हो सकता है, जब वे अपने  साथी अपराधकर्मियों को कठोर  सजा पाते हुए देखें। 

इसके साथ लोगों की मानसिकता बदलनी भी बहुत जरूरी है। आज भी नारी चाहे हर क्षेत्र में पुरुषों के समकक्ष हो। पर अधिकाँश पुरषों के मन में ,उसके लिए सम्मान नहीं है, । कुछ आंकड़े  पढ़कर हैरानी हुई। दिल्ली में एक लाख महिलाओं  में से 500 रेप की शिकार हुई हैं। मुंबई में एक लाख में 250 , बैंगलोर, चेन्नई में 5 और कलकत्ता में एक लाख महिलाओं में दो महिलायें . और कलकत्ता का  ये आंकड़ा पिछले पांच साल से ऐसा ही है। क्यूँ है ऐसा? क्यूंकि दक्षिण में बंगाल में महिलाओं का सम्मान है। बंगाल में  छोटी लड़कियों को सिर्फ माँ कहा ही नहीं जाता ,उन्हें सम्मान भी दिया जाता है। 
दुःख हो रहा है,ऐसा कहते पर सच तो यही है कि  हमारे उत्तर भारत में लडकियां आज भी जायदाद समझी जाती हैं। उनका अलग अस्तित्व नहीं माना  जाता। अधिकाँश पुरुष, उनके ऊपर अपना अधिकार समझते हैं,। 
पर धीरे धीरे लडकियां जागरूक हो रही हैं। जिस तरह निर्भीक होकर दिल्ली में लड़कियों ने प्रदर्शन में भाग लिया है और उनके माता -पिता ने इसकी अनुमति दी, वो स्वागतयोग्य है।  अब नयी पीढ़ी अपने बेटे-बेटियों में भेदभाव  नहीं करेगी। बेटियों को भी उतना ही प्यार और सम्मान मिलेगा अपने माता -पिता से . और जब हर घर से शुरुआत होगी समाज को भी लड़कियों का सम्मान करना सीखना होगा। अभी इस परिवर्तन में  बहुत समय लगेगा पर आशा और प्रार्थना है कि हमारे बाद आने वाली पीढ़ियों को  ऐसे अपराध की ख़बरें भी सुनने  को न मिले। अब कोई और निर्भया रेप की शिकार न हो।

निर्भया ( टाइम्स ऑफ इण्डिया द्वारा उस साहसी लड़की को यही नाम दिया गया है ) के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना में हाथ जुड़े हुए हैं। अब बस एक यही तमन्ना है, जल्द ही देख पाऊं कि मुस्कुराती हुई निर्भया  टी.वी. के माध्यम से हमसे मुखातिब हो रही है। चाहे उसे पूरी तरह ठीक होने में एक साल लग जाए, दुनिया के किसी भी कोने में उसे इलाज के लिए जाना पड़े पर हमें उसे मुस्कुराते हुए देखना है।

Sunday, December 16, 2012

ज़िन्दगी इम्तहान लेती है

अभी कुछ दिनों पहले बहन की शादी में शामिल होने मुंबई से बाहर  गयी तो नेट पर किसी को नहीं बताया कि  लखनऊ जा रही हूँ क्यूंकि पिछली लखनऊ यात्रा की खबर कुछ मित्रो को दे दी थी पर शादी की गहमागहमी में उनसे मिलने के लिए यथेष्ट समय नहीं निकाल पाने के कारण बड़ा दुःख हुआ था । किसी से कुछ मिनटों के लिए स्टेशन पर मिली तो किसी से घर पर। जिसकी गाथा यहाँ और यहाँ लिख ही रखी  है। और इस बार यह भी प्रार्थना की थी कि खडूस सहयात्री मिले जिन्हें बातें करने में कोई रूचि  न हो ताकि मैं इत्मीनान से किताबें पढ़ सकूँ। फिर इस से भी सरल उपाय सोचा कि खुद ही खडूसियत  ओढ़ ली जाए ताकि कोई बातचीत शुरू ही न कर सके।

यात्रा से सम्बंधित कोई पोस्ट लिखने का न तो इरादा था और न ही कोई मैटेरिअल ही पास था। पर लखनऊ से वापसी के वक़्त कुछ ऐसे सहयात्री मिले , जिनके विषय में जानकार एक शॉक  सा ही लगा। 
वे तीन लोग थे, दो बीस-बाइस की उम्र के युवक और एक पचास के करीब का पुरुष। लड़कों के लम्बे बाल थे और हेवी एक्सेंट में अंग्रेजी बोल रहे थे। तीनो रिश्तेदार तो नहीं थे पर जिस तरह से वे  पुरुष उन लड़कों का ख्याल रख रहे थे ,करीबी ही लग रहे थे। फिर भी समझ नहीं आ रहा था , कहीं एडमिशन के लिए जा रहे हैं तो यह पुरुष क्यूँ साथ है ? दोनों लड़के अकेले जा सकते हैं . अपनी दुबली काया  से स्पोर्ट्स मैन  भी नहीं लग रहे थे कि  कोच साथ हो। अगर किसी बैंड के मेंबर हैं तो कोई इंस्ट्रूमेंट साथ  नहीं था। होंगे कोई, मैंने ज्यादा  दिमाग नहीं लगाया और एक किताब लेकर ऊपरी बर्थ पर चली गई और थोड़ी ही देर में सो गई .

मेरा बेटा अंकुर  भी साथ था। उसे टी शर्ट- थ्री फोर्थ-चप्पल में देख और हाथो में मोटी अंग्रेजी की किताब ,कानो में हेड फोन लगाए देख वे लड़के उसके साथ कम्फर्टेबल हो गए और इनके बीच बात-चीत शुरू हो गयीं। शादी के  जागरण और देर तक पुस्तक पठन से मेरी आँखें जल्दी ही मुंद  गयीं। बीच बीच में देखती इनकी बातें चल ही रही हैं। अंकुर को यूँ भी  रतजगे की आदत है, उसे अच्छा साथ मिल गया था . करीब रात के दो बजे वे सब सोने गए। 

मुंबई पहुँचने पर अंकुर ने बताया कि  वे तीनो Rehab में हैं। मेरे चौंकने  पर उसने कहा, वो भी ऐसे ही चौंका था और मान नहीं रहा था तो उनलोगों ने मुंबई के पास एक Rehab Center का कार्ड दिखाया और बताया कि  वे दोनों लड़के ड्रग  एडिक्ट थे और वे पुरुष अल्कोहलिक (शराबी ) अब तीनो उस एडिक्शन से उबर चुके हैं और सेंटर के प्रोग्राम के तहत आम लोगो (इसके लिए वे 'मेनस्ट्रीम पीपल ' जैसे टर्म इस्तेमाल कर रहे थे)  में घुलने मिलने की कोशिश कर रहे हैं . वे तीनो एक हफ्ते के लिए उन पुरुष के घर पर गए थे और अब सेंटर लौट रहे हैं। तीनो ने अंकुर को  अपनी अपनी कहानी सुनायी। 

उनकी कहानी उनकी ही जुबानी 

निशांत (19 वर्ष ) 

मैं अपने माता -पिता की इकलौती संतान हूँ .मैं नौ साल का था जब पहली बार सिगरेट पी। मेरे घर के सामने कुछ लड़के शाम  को सिगरेट पिया करते थे। मैं उनके आस-पास ही खड़ा रहता था। उनमे से ही एक ने पहली बार सिगरेट पिलाई और फिर आदत लग गयी। नवीं  कक्षा में था जब मेरे माता-पिता दुबई चले गए।मुझे हॉस्टल में नहीं रख कर मेरे चाचा की देखरेख में उनके घर पर रखा। पर चाचा के यहाँ मैं अजनबी जैसा ही था। बाहर के एक कमरे में रहता। उनके परिवार का कोई सदस्य मुझसे बात नहीं करता। बस समय पर खाना भिजवा देते कमरे में जिसे मैं कभी खाता, कभी नहीं। धीरे धीरे मैं हर तरह का नशा करने लगा। माँ से बहाने से पैसे मंगवाता, वे भी भेज देतीं। (निशांत ने अंकुर को अपने हाथ, छाती और गले के ज़ख्म भी दिखाए, जो इंजेक्शन लेने की  वजह से बने थे। बता रहा था घोड़ो को रेस के समय तेज दौड़ने के लिए कोई इंजेक्शन दिया जाता है, नशे के लिए ये लोग उसे लेते थे  ) पर इन सबके साथ मेरी पढ़ाई अच्छी चल रही थी। मैंने अच्छे  नबर से दसवीं और बारहवीं किया और मुंबई के  IHM  (होटल मैनेजमेंट ) में मेरा सेलेक्शन हो गया। मुंबई में हॉस्टल में आने के बाद मेरी नशे की आदत और बढ़ गयी। मैं एक लेक्चर अटेंड करता और नशे की तलब लग जाती, हॉस्टल में आकर इंजेक्शन लेता। पर एक दिन मैं सो कर ही नहीं उठ सका। आँखें खोलीं तो लगा आँखों के आगे पटाखे छूट रहे हैं, लाल-पीली रौशनी। बड़ी मुश्किल से उठा और मुझे लगा 'मेरे साथ कुछ भी ठीक  नहीं है,अब और नहीं,इन सबसे निकलना होगा' मैंने माँ को स्काइप पर मैसेज भेज 'मम्मा, आयम इन डीप ट्रबल, आई नीड योर हेल्प' संयोग से माँ भी ऑनलाइन थीं और उन्होंने टाइप  किया 'हाँ, बोलो बेटा " ये 'बोलो बेटा' पढ़कर मैं फूट फूट कर रोने लगा . माँ  ने तुरंत कॉल किया और अच्छी  बात ये रही कि माँ  मेरी सारी  बात सुनकर हिस्टिरिकल नहीं हुईं, चीखी-चिल्लाई नहीं। मुझे कोसा  नहीं, ये नहीं कहा,"ऐसा तुम कैसे कर सकते हो?' उन्होंने शान्ति से मेरी पूरी बात सुनी। मेरा धैर्य बंधाया। दो दिन बाद ही वे दुबई से मुंबई आयी। इस रिहैब सेंटर का पता लगाया और मुझे यहाँ भर्ती कर दिया। पिछले सोलह महीने से मैं यहाँ हूँ। पिछले कई महीने से मैंने बियर तक नहीं पी है। अब मैं बिलकुल स्वस्थ हूँ। मुझे यहाँ से छुटटी  मिल सकती है, पर मुझे यहाँ अच्छा लगता है। यहाँ आकर पता चला बिना ड्रग लिए, बिना कोई नशा किये भी खुश रहा जा सकता है। मैं ओबेराय होटल से एक कोर्स करने वाला हूँ और फिर बिना किसी नशा के नयी ज़िन्दगी शुरू करूँगा।

जावेद (22 वर्ष )

मैं देहरादून के एक बहुत ही महंगे स्कूल में पढ़ा .अच्छे नंबर से पास हुआ और दिल्ली के  'सेंट स्टीफेंस' जैसे प्रतिष्ठित कॉलेज में एडमिशन लिया । वहां पहले से ही मेरे स्कूल के सीनियर्स थे जो देहरादून में मेरे 'हॉस्टल  मेट्स' थे . उनलोगों ने मुझे अपने ग्रुप में शामिल कर लिया .अपने साथ बड़े बड़े राजनीतिज्ञों और मंत्रियों के घर पार्टियों में ले जाने लगे। वहाँ उनके बच्चों के साथ  वे लोग भी ड्रग्स लेते थे . फिर मेरे हाथ पैकेट्स भिजवाने लगे, कहते 'ये सीधा-साधा लड़का है, इस पर कोई शक नहीं करेगा।' मैं भी अपने सीनियर्स का काम करके खुश रहता था। धीरे धीरे मैं भी ड्रग्स लेने लगा और मैं 'ड्रग पेडलर' से 'ड्रग कंज्यूमर' और फिर 'ड्रग  एडिक्ट' बन गया। Rave Parties में जाने लगा और एक बार पुलिस की रेड में पकड़ा गया। मेरे मम्मी- डैडी   को खबर की गयी और मुझे कॉलेज से निकाल दिया गया। डैडी प्रिंसिपल से मिले, मुझसे एक बात  नहीं की और मम्मी के हाथ में टिकट रख दिया, "तुम्हे इसके साथ आना है, अकेले आना है, जो करना है करो। मुझे अब इस से कोई मतलब नहीं।" मैं अपने मम्मी- डैडी का इकलौता बेटा हूँ। मेरे कोई भाई-बहन नहीं हैं। जाहिर है डैडी  को मुझसे बहुत उम्मीदें थीं। उन्होंने मुझे दुनिया का बेस्ट दिया। पर मैंने उन्हें निराश किया .
इन सब बातों से मुझे इतना बड़ा झटका लगा कि मैं डिप्रेशन में चला गया। सात हफ़्तों तक मैं अपने कमरे से बाहर  नहीं निकला , न कुछ खाता -पीता था न किसी से बात करता था। मेरा वजन 35 किलो हो गया था। इतना कमजोर हो गया था कि मैं चल नहीं पाता  था। मेरा हाल सुनकर मेरी एक कजिन यू एस से आयी और उसने इस सेंटर  का पता लगाया . और मुझे यहाँ एडमिट कर दिया, यहाँ मैं व्हील चेयर पर आया था। अब मैं बिलकुल स्वस्थ हूँ। सारा नशा छोड़ दिया है। अब  धीरे धीरे हमें आम लोगो में घुलने-मिलने का मौका दिया जा रहा है। जल्द ही यहाँ से निकल कर मैं क़ानून  की पढ़ाई करूँगा और नशे के खिलाफ सख्त कानून बनाने पर जोर दूंगा  ताकि कोई जीवन बर्बाद न हो। 

धीरज (48 वर्ष ) 

मेरा बहुत बड़ा पारिवारिक बिजनेस है। जिसे मैं और मुझसे तीन वर्ष बड़े भाई मिल कर संभालते थे। दो साल पहले उनकी अचानक मृत्यु हो गयी। वे भाई से ज्यादा मेरे लिए दोस्त सामान थे। फिर भाभी ने अपना हिस्सा लेकर बिजनेस का बंटवारा कर दिया। अकेले बिजनेस संभालने में भी परेशानी होने लगी और मैंने शराब का सहारा ले लिया। मैं बेड  टी की जगह आधी बोतल व्हिस्की पीता। मीटिंग के दौरान भी शर्ट के अन्दर पिंट छुपा कर रखता और बीच बीच में बाथरूम में जाकर पीता। चौबीसों घंटे पीने लगा था। घर पर सब मुझसे दूर हो गए थे,मेरा सोलह साल का बेटा  मेरी बारह साल  की बेटी मेरे पास भी नहीं आते। बीवी भी दूर ही रहती . ये सब देख कर मैं और दुखी होता फिर और पीता। ऑफिस में भी सब पीठ पीछे मजाक उड़ाते और मैंने एक दिन फैसला किया इन सबसे उबरना होगा। पिछले छह महीने से इस सेंटर में हूँ। शराब को हाथ भी नहीं लगाता।  अभी एक हफ्ते के लिए घर गया था। बीवी बच्चे सब मेरे साथ एक्स्ट्रा स्वीट थे। मुझे पता था,वे जानबूझ कर ऐसी कोशिश कर रहे हैं पर मैं ये अटेंशन एन्जॉय कर रहा था। अब जल्द ही हमेशा के लिए घर लौट जाऊँगा और अपना बिजनेस संभालूँगा। 

जब 'अंकुर' ने उन सबकी कहानी सुनायी तो मैंने कहा, "मुझे पहले बताया  होता तो मैं भी उनसे बात करती और पूछती कि  आखिर उन्हें ड्रग  या शराब पीने के बाद क्या महसूस होता था, कैसी ख़ुशी मिलती थी कि  वे बार बार फिर उसकी तरफ  कदम बढाते। " 
बेटे ने बहुत गंभीरता से कहा, "शायद तुमसे वे लोग बाते नहीं करते क्यूंकि निशांत और जावेद कह रहे थे, 'पता नहीं तुम्हारी माँ क्या सोचेगी हमारे विषय में ' तो मैंने उनसे कहा 'नहीं, मेरी माँ एक राईटर है और बहुत कूल है।' (ये बच्चे लोग मेरे लिए हमेशा ये जुमला इस्तेमाल करते हैं कि ' तुम तो बहुत कूल हो ' कभी कभी लगता है कहीं ये लोग ऐसा तो नहीं सोच लेते कि माँ सबकुछ एक्सेप्ट कर लेगी। पर कोई बात नहीं तब मैं अपने 'अनकूल बिहेवियर' की झलक दे दूंगी उन्हें। वैसे भी यदा कदा दे ही देती हूँ ) 

पर अंकुर के मन में भी ये सवाल आया था और उसके पूछने पर उनलोगों ने कहा था, कि "उन्हें लगता था, ड्रग्स लेने के बाद वे ज्यादा जिंदादिल हो जाते हैं, उनके फ्रेंड्स को उनके साथ रहना अच्छा लगता है .अगर ड्रग्स नहीं लेंगे तो उनके दोस्त उन्हें पसंद नहीं करेंगे, उनसे दोस्ती नहीं बढ़ाएंगे । ये भीतर की insecurity और low self esteem  है  जो उन्हें ड्रग्स  को लेने उकसाती और फिर तो ड्रग्स  ही उन्हें और ड्रग्स  के लिए मजबूर करता ".. उस उन्नीस साल के लड़के की बात  सुनकर मैं हैरान थी। 
उसने आगे कहा था, "सबसे पहले जरूरत है यह स्वीकार करने की कि  आपके साथ सबकुछ ठीक नहीं है, आप नॉर्मल नहीं हैं। आप sick  है और आपको मदद की जरूरत है। हमें पता ही नहीं था कि बिना ड्रग  लिए भी खुश रहा जा सकता है। अब जैसे मैं  तुमसे बात कर रहा हूँ। तुम मुझे जज नहीं कर रहे। मेरी बातें सुन रहे हो। इस तरह हमें बिना जज किये हमारे बारे में बिना कोई राय बनाए भी लोग हमसे संवाद कर सकते हैं हम मेनस्ट्रीम के लोगो के बीच भी रह सकते हैं "

इन तीनो की कहानी  सुन बहुत ही अच्छा लगा। ज़िन्दगी चाहे रसातल में चली जाए पर बस एक हिम्मत की जरूरत होती है। अगर कोशिश की जाए तो सिर्फ उठ कर खड़ा ही नहीं हुआ जा सकता, सरपट दौड़ भी लगाई जा सकती है। किसी के साथ भी अगर बहुत बुरा हो गया होता है तो उसके बाद उस से ज्यादा बुरा नहीं हो सकता, सिर्फ अच्छा ही हो सकता है। 
हालांकि दोनों बच्चों के मन में एक मलाल भी है। निशांत के पैरेंट्स उसे दुबई बुला रहे हैं कि  वहां से कैटरिंग का कोई कोर्स कर ले। पर वो कहता है मेरी दसवी और बारहवी की परीक्षा के समय मेरे पैरेंट्स साथ नहीं थे तो अब मैं क्यूँ उनके  पास जाऊं? मैं भारत में ही रहकर कोर्स करूँगा। 
जावेद के पिता अब तक उस से बात नहीं करते। जावेद का कहना  है वो ये तमन्ना नहीं रखता कि  कुछ ऐसा बन जाए कि उसके पिता उस पर गर्व कर सकेँ । बस इतनी सी उसकी ख्वाइश है कि  कुछ ऐसा कर सके, ज़िन्दगी में कि  उसके पिता को कोई शर्मिंदगी न हो और वे उसका अस्तित्व  स्वीकार कर सकें .

जिस तरह से उन दोनों लडको ने इतने स्नेह से अंकुर को गले लगा कर विदा कहा था कि सोच कर मेरा मन भर आया। दोनों लड़कों के अन्दर एक छटपटाहट सी है कि समाज उन्हें स्वीकार कर ले। दुआ है अब उनके जीवन में अब बस अच्छा ही अच्छा हो .

(सहयात्रियों के नाम बदल दिए हैं )

Tuesday, November 27, 2012

ये कैसा चक्रव्यूह

पिछले कुछ महीनो में कई फ़िल्में आयीं और उन्होंने  काफी दर्शकों को थियेटर की तरफ आकर्षित किया। बर्फी, इंग्लिश-विन्ग्लिश, OMG , जब तक है जान आदि। पर इन सबके बीच ही एक बहुत ही सार्थक, चिंतनशील, हमारे समाज की एक बहुत ही गंभीर समस्या से रूबरू करवाती एक  फिल्म आयी 'चक्रव्यूह' और गुमनामी के अंधेरों में खो गयी। मुझे इस फिल्म का बहुत पहले से ही इंतज़ार था वैसे भी  प्रकाश झा की कोई फिल्म मुझसे नहीं छूटती। इन फिल्मों की भीड़ में इसे भी देखा और तब से ही लिखना चाह रही थी, पर कुछ  prior commitment  ने व्यस्त रखा। 


नक्सल समस्या पर बनी इस फिल्म ने सोचने पर मजबूर कर दिया। हम जो बाहर रहकर देखते हैं क्या सम्पूर्ण सच वही है? बिना उस समस्या को पास से देखे, उस से जूझते लोगो को जाने हम इस समस्या की गंभीरता को नहीं समझ सकते । हालांकि नक्सलियों का रास्ता गलत ही है, हिंसा किसी समस्या का हल नहीं है। और निर्दोष लोगो की ह्त्या, चाहे किसी  पैसे वाले की हो या बेचारे पुलिस वाले की ,कहीं से भी सही नहीं है। पर उनकी तंगहाली, उन पर किये जा रहे जुल्म, अपनी ही जमीन से  बेदखल करना, उनकी जमीन पर फैक्ट्री का निर्माण कर पैसे कमाना, ये सारी स्थितियां उन्हें गहरे आक्रोश से भर देती हैं।

पुलिसकर्मी भी अपने परिवार से दूर, सारी सुख सुविधाओं से दूर , इन बीहड़ जंगलों में रह कर इन नक्सलियों से लड़ते हैं। बड़ी मेहनत से  जाल बिछा, दिनों रणनीति रचकर अपने कई साथियों की शहादत के बाद किसी बड़े नक्सलवादी नेता को  पकड़ते हैं और नक्सलियों द्वारा किसी बिजनेसमैन के अकर्मण्य बेटे को छुडाने के लिए उन्हें उस नक्सली नेता को आज़ाद कर देना पड़ता है। और फिर वे खुद को वहीँ खडा पाते हैं, जहाँ से चले थे . सारी  लड़ाई फिर नए सिरे से लड़ने की तैयारी करनी पड़ती है।
टुकड़ों -टुकड़ों में इन सारी बातों से हम सभी अवगत हैं। पर जब परदे पर सिलसिलेवार इन्हें  घटते हुए देखते हैं ,तब हम पर सच्चाई तारी होती है। 

आदिल (अर्जुन रामपाल ) को नक्सली इलाके में पोस्टिंग मिलती है।वहां अब तक पुलिस को कोई कामयाबी नहीं मिली है .आदिल का एक पुराना मित्र है कबीर (अभय देओल ). आदिल  ने विद्यार्थी जीवन में उसके कॉलेज की फीस भरी है, अच्छे दोस्त हैं दोनों . कबीर,आदिल की मदद के लिए नक्सलियों के दल  में एक नक्सली बनकर शामिल हो जाता है। शुरुआत में तो वो आदिल को सूचनाएं देता है , जिसकी वजह से पुलिस को कई कामयाबी मिलती है और नक्सली नेता राजन (मनोज बाजपेयी ) पकड़ा जाता है । पर फिर धीरे-धीरे उन नक्सलियों के साथ  रहते  हुए कबीर  महसूस करता है कि सचमुच आदिवासियों पर बहुत जुल्म और अत्याचार हो रहे हैं।  नेताओं के अपने घिनौने  स्वार्थ हैं, जिसे पूरा करने  के लिए वे उनकी जमीन हड़पते  हैं और विरोध करने वालों की  निर्ममता से ह्त्या कर दी जाती है। आदिवासियों की जमीन पर कबीर बेदी, एक बड़ी फैक्ट्री लगाना चाहते हैं . नेतागण गाँव वालों  से कहते हैं कि उनके विकास के लिए यह सब किया जा रहा है। पर असलियत में वह गाँव की जमीन पर अपनी फैक्टरी खड़ी कर बड़ा मुनाफा कमाना चाहते हैं और इसके लिए नेताओं को भी अच्छे पैसे दिए गए हैं . इसीलिए  वे उनके सुर में सुर मिलाते नज़र आते हैं।  फैक्ट्री लगाने के लिए उन्हें गाँव की जमीन चाहिए। राज्य के मुख्यमंत्री से लेकर सारे नेता , उनकी मदद को तैयार हैं। जमीन खाली करने के आदेश का नक्सल विरोध करते हैं। तो पुलिस उनका दमन करती है . विरोधस्वरूप नक्सल कबीर बेदी के  बेटे का अपहरण कर  लेते हैं और फिर आदिल को बिजनेसमैन के बेटे को आज़ाद कराने के लिए नक्सल नेता राजन को छोड़ना पड़ता है। इस लड़ाई में दोनों दोस्त आमने-सामने होते हैं. कबीर ,अपने मित्र को आगाह कर देते हैं कि औरतों और बच्चों पर जुल्म ढाना बंद करे पुलिस वरना अगली मुठभेड़ में दोनों दोस्त में से एक ही जिंदा वापस लौटेगा। और एक मुठभेड़ में आदिल को, कबीर  पर गोली चलानी पड़ती है।

फिल्म में वही सबकुछ है जो रोज घटित हो रहा है। मुफ़्ती मोहम्मद सईद की बेटी को छुडाने के लिए खूंख्वार आतंकवादी को छोड़ना पड़ा था . पता नहीं कितनी रातों की नींद त्याग कर कितनी  तैयारियों कितने पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद ,उस आतंकवादी को पकड़ा गया होगा।

एक फिल्म में पूरी नक्सल समस्या ,पुलिस की लाचारी, नेताओं की बेईमानी , कुछ भ्रष्ट पुलिसकर्मियों के अनाचार ,बड़े उद्योगपतियों द्वारा जनता को गुमराह करना, इन सबको समेटना मुश्किल था। इसीलिए फिल्म कुछ अधूरी सी  लगती  है।पर नक्सल  समस्या को देखने की एक अलग दृष्टि जरूर प्रदान करती है। जब नक्सली महिला नेता जूही (अंजलि गुप्ता ) के पिता के क़र्ज़ न चुका पाने की सजा के रूप में सूदखोर उसकी दोनों बहनों को उठा ले जाते हैं। जूही के पुलिस में रिपोर्ट करने जाने पर पुलिसकर्मी उसके साथ ही अनाचार करना चाहते हैं तो वह जंगल में जाकर बन्दूक उठा लेती है। उसके मन में अमीरों के प्रति, पुलिस के प्रति नफरत होगी ही। उसकी दोनों बड़ी बहने चुपचाप जुल्म सह गयीं पर जूही समझौता नहीं कर पायी हालांकि बच्चों और स्त्रियों की रक्षा के लिए जब वह आत्मसमर्पण कर देती है तो पुलिसकर्मी उसक साथ बलात्कार करते हैं और उसके साथ वही सब होता है जिस से बचने के लिए वो जंगल में आकर नक्सली बन गयी थी। यानी कि गरीब का कोई निस्तार नहीं।

धीरे धीरे  यह नक्सलवाद पूरे देश के 200 जिलों में फ़ैल गया है ,और भविष्य में इसके और भी बढ़ने की  ही संभावनाएं हैं क्यूंकि इनकी समस्या को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा। अगर आदिवासियों का शोषण बंद हो,उन्हें भी ज़िन्दगी की बुनियादी जरूरतें मुहैया हों।दो जून की रोटी,कपडे, शिक्षा का अधिकार हो तो फिर उन्हें ये नक्सली नेता नहीं बहका पायेंगे . पर उनके लिए जारी किये गए फंड तो नेताओं की जेब में जाते होंगे और उनकी जमीन हड़पने की भी चालें चली जाती हैं तो फिर उनकी तरक्की कैसे हो? फिल्म में आदिवासियों में शिक्षा के अभाव को बहुत ही बुद्धिमत्तापूर्वक रेखांकित  किया गया है। जब नक्सली व्यायाम करते हुए बीस तक की गिनती गिनते हैं और उसके बाद पुनः एक से शुरू करते हैं क्यूंकि उन्हें बीस से ऊपर की गिनती नहीं आती। 

नक्सली नेता राजन के रूप में मनोज बाजपेयी और उनके शिक्षक-चिन्तक के रूप में ओम पुरी, छोटी भूमिकाओं में हैं पर बेहतरीन अभिनय किया है। अभय देओल का रोल एक author backed  रोल था और उन्होंने पूरा न्याय किया है उसके साथ। अर्जुन रामपाल  के फैन (मैं भी ) निराश होंगे। एक्टिंग तो उनके वश की है नहीं पर लुक में भी वे इम्प्रेस नहीं कर पाते । पता नहीं प्रकाश झा ने  इतने फिट पुलिसकर्मी कहाँ देख लिए। इस रोल के लिए अर्जुन को बहुत मेहनत करनी पड़ी,अपना वजन काफी घटाना  पड़ा। उनकी पत्नी के रोल में ईशा गुप्ता भी अति स्लिम हैं पर ख़ास प्रभावित नहीं करतीं। उनका रोल भी छोटा सा है ,और अर्जुन रामपाल  के साथ एक लम्बा प्रेम प्रसंग का सीन एडिटिंग की भेंट चढ़ गया।  पर इस फिल्म की देन  हैं ,अंजलि गुप्ता। अपने नक्सली किरदार को बखूबी निभाया है उन्होंने, उनकी बौडी लैंग्वेज, बोलने का अंदाज़ , भाषा,आक्रोश सब बहुत ही गहराई से अभिव्यक्त हुआ है। 

संगीत पक्ष कमजोर सा ही है। एक आइटम सॉंग डाला गया है, पर उसका  फिल्मांकन ,नृत्य-
गीत-संगीत सब बहुत ही निचले स्तर का है।

हमेशा की तरह ,प्रकाश झा का निर्देशन लाज़बाब है। पुलिस और नक्सलों की मुठभेड़ के दृश्य, धूल धूसरित इलाकों में नक्सलों के कार्यकलाप के दृश्य बहुत ही जीवंत बन पड़े  हैं। 

Friday, November 23, 2012

कल देखा, मैंने एक माँ को

किंजल्क के साथ 
ब्लॉग जगत ने बहुत कुछ दिया, इतने वर्षों बाद हिंदी लिखने-पढने का मौका दिया, ढेर सारे मित्र दिए ,इतने सारे छोटे भाई-बहन दिए ...आज 'थैंक्स गिविंग डे '  तो नहीं है पर मैं थैंक्स कहने के मूड में हूँ :)। वैसे एकाध unpleasant exp भी रहे पर वो शायद इसलिए कि कुछ कड़वा न चखो तो मीठे का स्वाद कैसे पता चले कि वो कितना मीठा है :) ये तो सुखद अनुभवों के सागर में  कंकड़ जैसे थे जो ज़रा सी हलचल मचा कर अतल  गहराइयों में डूब गए। 

पर आज भी अच्छे मित्रों की लिस्ट में नए नाम जुड़ते ही जा रहे हैं। ऐसे ही एक दिन 'अतुल पांडे' नाम के पाठक का एक मेल आया कि  मैंने आपका ब्लॉग पढना शुरू किया है, अच्छा लग रहा है......इत्यादि ,साथ ही आग्रह था कि  फेसबुक पर रिक्वेस्ट भेजी है add कर लीजिये . मैंने शुक्रिया  कहकर जबाब दे दिया और फ़ेसबुक  पर भी उन्हें दोस्त बना लिया।

कनिष्क के साथ 
फेसबुक पर अक्सर मैं अपने बच्चों की बातें ,उनकी शरारतें, उनकी बेवकूफियों के विषय में लिखती रहती हूँ पर ये नहीं पता था, इन्हें पढ़कर किसी के मन में गहरे अहसास जाग सकते हैं। अभी दो दिन पहले अतुल का एक मेल आया, एक प्यारी सी कविता और इस सन्देश के साथ 

"आपका अपने पुत्रो के प्रति प्रेम देखकर  (फेसबुक पर कुछ फोटोज और उनके नीचे लिखे कुछ शब्द पढ़ कर पता चला ) माँ की याद आ गयी , मै जल्दी जल्दी घर गया ,वहाँ  जाकर आप के बारे में सोच रहा था तो मन में कुछ शब्द आये और अपने आप पंक्तियों में सज गए आज करीब 8 दिन बाद लौटा हूँ सो आपको भेज रहा हूँ  " साथ में  कविता थी और ये आग्रह भी कि उसे सुधार दीजिये। 

अब मैंने अतुल की  प्रोफाइल  चेक की  तो पता चला अभी ,उसने कुल उन्नीस बसंत  देखे हैं ,वो तो मेरे बड़े बेटे से भी छोटा है :)
अब मुझे कहाँ कविता की इतनी  समझ कि उसकी कविता सुधार सकूँ .   उसी वक़्त एक प्रखर युवा कवि ऑनलाइन दिख गए। उनसे कहा ,तो उन्होंने हाथ जोड़ दिए कि ये मेरे वश का नहीं {हो सकता है, न भी हो। पर मैंने इसे ,उनके नखरे का नाम दे  दिया :)} क्यूंकि अनुभव ही कुछ ऐसे हैं .एक मित्र हैं , किसी कहानी पर उनके विचार मांगो  तो वे उसका मसनद बना कर सो जाते हैं। मित्र होने के नाते तकाज़ा करो, उलाहना दो ,नाराज़गी दिखाओ, उन पर  कोई असर नहीं होता .वे भी शायद इसे मित्रता का आवशयक अंग समझ नज़रंदाज़ कर देते हैं :( 

फिर मुझे सलिल वर्मा जी का ध्यान आया, उन्हें कविता की अच्छी समझ है और सलिल जी का शुक्रिया अदा करने को तो शब्द भी कम पड़ें {आप दोनों महानुभाव सुन रहे हैं ,I mean  पढ़ रहे हैं न  :) } . 
सलिल जी ने  लौटती डाक से यानि  कि  तुरंत ही कविता को संवार कर, निखार कर भेज दिया। तहे दिल  से  शुक्रिया  सलिल जी .
और अतुल तुम्हारा भी, भाव तो तुम्हारे ही हैं, और  मैं कोशिश करुँगी जैसे भाव तुमने कविता में पिरोये हैं, मैं वो सब खुद में उतार सकूँ {मुश्किल है, पर कोशिश पर दुनिया कायम है :) }

तो आप भी पढ़िए वो कविता 




अतुल
कल देखा, मैंने एक माँ को 

अपने बच्चों को प्यार करे, उन का ही मनुहार करे ,
खुद ही उनसे वह रुष्ट रहे, खुद ही उनका श्रृंगार करे , 
अपने बच्चों पर पूरी दुनिया, वह न्योछावर करती है 
ना जाने क्यूँ वह मुझको भी, मेरी माँ सी लगती है । 

हर वक़्त उन्हीं का ध्यान रहे ,खुद का कुछ भी न भान  रहे ,
बच्चों को कष्ट न हो कोई ,अपने दुःख से अनजान रहे, 
इनका बढ़ता ही मान  रहे ,ईश्वर से सदा ये कहती है ,
ना जाने क्यूँ वह मुझको भी, मेरी माँ सी लगती है ।

उनकी खातिर दुःख भी झेले ,पर किसी से कुछ ना बोले 
जब कभी देर हो आने में, करे प्रतीक्षा वो दर खोले 
खुद ही खुद में मालूम नहीं, वो क्या गुनती-सुनती रहती है 
ना  जाने क्यूँ वह मुझको भी, मेरी माँ सी लगती है ।

चाहे जितना ही कष्ट सहे, चाहे जितनी वो  त्रस्त  रहे , 
अपने सब कष्ट भुलाकर, अपने बच्चों में व्यस्त रहे ,
अपने बच्चों की आँखों से वह दुनिया देखा करती है ,
ना जाने क्यूँ वह मुझको भी, मेरी माँ सी लगती है ।

जब भी मैं कोई प्रश्न करूँ, पूरा उत्तर बतलाती है ,
दुनियादारी के पहलू  के सारे मतलब समझाती है ,
मैं भूल करूँ चाहे कोई, वह क्रोध नहीं दर्शाती है ,
ना जाने क्यूँ वह मुझको भी मेरी माँ सी लगती है ।

तुम वीर बहादुर, मृदुल बनो, दुनिया में तुम 'अतुल' बनो ,
तुम मुकुल मेरी इस बगिया के ,कर्तव्यनिष्ठ तुम प्रतुल बनो ,
जीवन में आगे बढ़ने का वह मार्ग सदा दिखलाती है 
न जाने क्यूँ वह मुझको भी मेरी माँ सी लगती है ।

---अतुल पांडे 

Tuesday, November 20, 2012

कुछ अनुत्तरित प्रश्न

कल कुछ छठ पूजा के दृश्य देखने के लिए न्यूज़ चैनल ऑन किया और खबर ये मिली कि पटना में छठ घाट पर एक अस्थाई बांस का पुल टूट जाने से मची भगदड़ में कई लोगों की मृत्यु हो गयी। जिसमे ज्यादातर बच्चे और महिलायें  शामिल हैं . ईश्वर उन सबकी आत्मा को शान्ति प्रदान करें .


ऐसा समय ही आता है जब ईश्वर पर से विश्वास हिलने लगता है। ईश्वर को लेकर बहस से मैं हमेशा दूर रहती हूँ। न तो मैं घोर आस्तिक हूँ न ही नास्तिक। 
बचपन से बड़ों ने जहाँ कहा, सर झुका दिया। तीज त्यौहार पसंद हैं , और मैं अपने मन से भी ये सवाल नहीं करती कि ईश्वर में आस्था की वजह से पसंद हैं या फिर उनसे जुडी दूसरी  बातों के लिए। हालांकि जब मेरे भाई की शादी हुई थी और पहली तीज के लिए भाई-भाभी में बहस चल रही थी, भाभी तीज का पूरे दिन का व्रत रखना चाहती थी और भाई यह कहकर मना कर रहा था कि 'उसे ऐसे कर्मकांडों में विश्वास नहीं ' तब मैंने उसे यही समझाया था अगर भाभी व्रत रखना  चाहती है तो रखने  दो , रोज की दैनंदिन एकरसता से कुछ अलग होता है। घर का माहौल बदल जाता है। शौपिंग करना ..पूजा की तैयारी करना , घर की साफ़ सफाई, सजावट करना ,प्रसाद बनाना , लोगों  का आना जाना, किसी भी त्यौहार से जुडी कई सारी बातें होती हैं, जो घर का माहौल बिलकुल अलग सा खुशनुमा बना देती  है। 
और वैसे भी व्रत रखे या नहीं ये भाभी (या किसी भी स्त्री का )  का निर्णय होना चाहिए। कई लोग प्यार में कहते हैं ,मैंने तो अपनी पत्नी को करवा चौथ या तीज का व्रत नहीं रखने दिया अपने हाथों  से उसे खाना खिला दिया। उन पतियों के प्यार के आगे नतमस्तक पर ये निर्णय आप अपनी पत्नी पर ही छोड़ दें, तो बेहतर। उन्हें अपना निर्णय लेने की आजादी होनी चाहिए और व्रत रखना कोई ख़ुदकुशी नहीं हैं कि  जबरन रोका जाए। अगर जबरन रोका जाए तो फिर ये भी आपकी पुरुष मानसिकता की तानाशाही ही कहलाएगी। खैर भाभी तो व्रत रखती  ही है 

उन्हें यह सब कहने के बाद, मैंने अपने मन को टटोला आखिर मैं क्यूँ दीवाली, तीज ,गणपति, सब इतने शौक से मनाती हूँ। शायद उनसे जुडी तमाम इन्हीं बातों के लिए। और मैं भगवान के आगे भी उसी श्रद्धा से हाथ जोडती हूँ जैसे अपने किसी बड़े बुजुर्ग के सामने . उनका आशीर्वाद लेने के लिए। एक बार मैंने अपनी  पोस्ट में  मजाक में लिखा था 'मेरी इस बात से लोग कहीं मुझे नास्तिक न समझ लें' इस पर शरद कोकास जी  ने अपने कमेन्ट में लिखा था "आपको नास्तिक बनने  के लिए बहुत मेहनत  करनी पड़ेगी, ऐसे ही कोई नास्तिक नहीं बन जाता " तो मैं ऐसी   मेहनत  से इनकार करती हूँ। न तो मुझे ये सिद्ध करना है कि  ईश्वर  है न ही ये सिद्ध  करना है कि  ईश्वर नहीं है। दुनिया में बहुतेरे ऐसे दूसरे  काम पड़े हैं , जिन्हें करने के लिए ज़िन्दगी कम पड़  जाए।


पर जब धार्मिक स्थलों पर ऐसी घटनाएं होती हैं .अमरनाथ यात्रा पर जाते हुए लोगों के साथ हादसा, किसी मंदिर में दर्शन के लिए गए लोगो की भगदड़ में मौत।  कल ही छठ  पूजा के दौरान इतनी महिलाओं और बच्चों की मौत तो ईश्वर से सवाल करने को जी चाहता है, ये लोग तो पूरी श्रद्धा से आपकी पूजा के लिए गए थे फिर क्यूँ कितनी ही माँओं का आँचल  सूना किया??कितने ही बच्चों के सर पर से साया छीना ?? 
जबाब में  मन को सांत्वना देने के लिए लोग कह सकते हैं, 'इतने ही दिन का जीवन था'.....'वे पूर्वजन्म का कोई कर्म भुगतने आये होंगे '.  पर उनके जो आत्मीय जन पीछे रह गए, उनके दुःख का क्या? छठ पर्व ज्यादातर बच्चों के लिए किया जाता है। जिनके बच्चों को  भगवान  ने छीन लिया, उनकी माँ  ने उनकी लम्बी उम्र के लिए व्रत रखा था, वे अब बाकी का  जीवन कैसे गुजारेंगी ??  या वो बच्चे जिन्हें जीवन भर ये दुःख सालता रहेगा कि  'माँ ने उनकी मंगल-कामना के लिए व्रत  रखा और ईश्वर  ने उन्हें अपने पास ही बुला लिया।'

ये कुछ ऐसे सवाल है जो शायद सबका दिल-दिमाग मथते होंगे पर ये समझ नहीं आता, लोग कैसे अपने मन को समझाते हैं ?? .
एक सलाह मिल सकती है 'गीता पढ़ा करो "
पर अभी मन इतना क्षुब्ध और कुपित है कि कुछ भी सही  नहीं लग रहा .

हादसों पर वैसे तो  किसी का वश नहीं पर जब ये हादसे मानव निर्मित होते हैं तो क्षोभ दुगुना हो जाता है। 
छठ  पूजा , बिहार का महापर्व है। सभी बिहारियों के मन में इस व्रत को लेकर असीम श्रद्धा होती है और शायद ही कोई घर ऐसा हो जिनके खानदान का  कोई न कोई सदस्य  छठ  पूजा न करता हो।
हर वर्ष पटना में हज़ारों लोग गंगा किनारे  छठ पूजा के लिए एकत्रित  होते हैं। प्रशासन इतना लेखा-जोखा नहीं लगा सकता ? अनुमानतः कितने लोग आयेंगे, कितने लोगों के पूजा की व्यवस्था होनी चाहिए? 
कितने घाट  बनाने चाहिए ? साल  में एक बार जनता के सामने प्रशासन को अपनी  कार्यकुशलता दिखलाने  की जरूरत पड़ती है पर उसमे भी वे बुरी तरह नाकाम रहते हैं। 
पर कब तक चलती रहेगी इस तरह की ऐसी अव्यवस्था ? इतना कमजोर पुल क्यूँ बनाया गया?  अगर इतने लोगो का भार पुल नहीं संभाल सकता था तो पुलिस वाले वहां तैनात क्यूँ नहीं थे? क्यूँ लोगों को नहीं रोका गया? पूजा के दौरान बिजली कैसे चली गयी? ये कुछ अनुत्तरित प्रश्न हैं, जिनके जबाब कभी नहीं मिलेंगे 
आम जनता की सुविधा-असुविधा यहाँ तक कि उनकी ज़िन्दगी तक की परवाह नहीं इन्हें। 

पटना के अट्ठाईस घाट  असुरक्षित घोषित कर दिए गए थे। समय रहते, वे अच्छे सुरक्षित घाट का निर्माण नहीं कर सके। कम से कम जनता की  सुरक्षा के लिए तो कोई बंदोबस्त करते कि अनावश्यक  भीड़ न इकट्ठी हो। पर इन सबकी तैयारी बहुत पहले शुरू कर देनी चाहिए जिसकी आदत नहीं हमारे प्रशासन को .वे आनन् फानन में काम करना जानते हैं। इस महापर्व के दो दिन पहले उनकी नींद खुलती है  ताकि बड़े अधिकारियों, मंत्रियों  की आँखों में धूल  झोंका जा सके और वे लोग भी सारी असलियत समझते हुए भी आँखें मूंदे रहते हैं।
क्या इतना दुष्कर कार्य है , इस महापर्व के लिए अच्छी व्यवस्था करना ? जनसँख्या ज्यादा है , यह कहकर लोग किनारा कर लेते हैं। पर यह तो पहले से पता है, तो उसके अनुरूप ही व्यवस्था होनी चाहिए।
क्या मुंबई की जनसँख्या कम है? अभी अभी बाल ठाकरे की अंतिम यात्रा  में लाखों लोग शामिल हुए। कोई अनहोनी नहीं घटी , अखबारों में पढ़ा, चार साल पहले जब बाल ठाकरे बीमार पड़े थे ,उसी वक़्त पुलिस विभाग ने उनकी अंतिम यात्रा में भीड़ का अनुमान लगाकर पूरी रूप रेखा तैयार कर ली थी। अनुमानतः कितने लोग शामिल होंगे, किन रास्तों से किस वक़्त ट्रैफिक गुजरेगा आदि .और उसके ब्लू प्रिंट पूरे विभाग को भेज दिए गए। पिछले चार वर्षों में मुंबई की जनसंख्या बढ़ी ही होगी। फिर भी इसे संभालने में उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं हुई। 

अगर दूसरी जगह की सुव्यवस्था की बात  की जाए तो तुरंत अपने प्रदेश वाले नाराज़ हो जाते हैं कि  बाहर  रहकर हमें सीख देने का क्या अधिकार है,किसी को। (मुझपर तो एक बार अपने ही एक बिहारी भाई  ने लाठी लेकर दौड़ने वाली बात  भी कह डाली थी, क्यूंकि वे मुझे मुम्बईकर  समझ बैठे थे, कई लोगों को ऐसी ग़लतफ़हमी होते देख,मन हुआ ब्लॉग पर ही लिख कर टांक दूँ,'मैं भी बिहार की ही हूँ ' )
पर हम कोई सीख नहीं देना  चाहते , हम प्रदेश से दूर रहनेवालों का दिल दुखता है, जब हम देखते हैं कि यहाँ सडकों पर इतनी भीड़ को आसानी से नियंत्रित कर लिया जाता है। गणपति विसर्जन में एक मंदिर के छोटे से तालाब के आस-पास हज़ारों की भीड़ एकत्रित होती है पर सारा काम सुचारू रूप से संपन्न हो जाता है। किसी को कोई तकलीफ नहीं होती। तब मन में ये सवाल उठता है, हमारे यहाँ भी इतने सुचारू रूप से हर  कार्य क्यूँ नहीं संपन्न होता? हमारे देश की ही पुलिस है, समान ट्रेनिंग प्राप्त फिर एक जगह वो इतनी अक्षम क्यूँ हो जाती है?  

इसके लिए थोड़ी सी अपेक्षा अपने भाई-बहनों से भी  है, वे भी जरा खुद में सहनशीलता लायें। अपने कर्तव्यों का पालन करें .आज भी वहां यही माना जाता है, जिसके गले में आवाज़ है, जिसकी बाजू में ताकत है वह सबसे आगे खड़ा होगा। क्यू में पीछे खड़े रहना बुजदिली की निशानी है। प्रशासन और जनता दोनों को ही अपने अपने कर्तव्य समझने होंगे, मिल कर काम करना होगा, तभी ऐसे हादसे टाल  जा सकते हैं।

सभी दिवंगत आत्माओं को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि 

Saturday, November 10, 2012

दुःख सबके मश्तरक हैं पर हौसले जुदा (कहानी )

मौसम बदल रहा था, ठंढ के दिन शुरू होने वाले थे .हलकी सी खुनक थी हवा में। मालती हाथों में चाय का कप लिए बालकनी में खड़ी  थी। सूरज डूबने वाला था। आकाश सिंदूरी रंग से नहाया हुआ था। आकाश में अपने घोसलों की तरफ लौटती चिड़ियों की चहचाहट और नीचे मैदान में खेल रहे बच्चों का शोर मिलकर एक हो रहे थे। बहुत ही ख़ूबसूरत दृश्य था . मालती को ऐसे दृश्य बहुत ही पसंद थे  और वह रोज शाम को नियम से चाय का कप लेकर बालकनी में आ खड़ी  होती । 

थोड़ी देर में हल्का हल्का अँधेरा घिरने लगा।  बच्चों की माएं आवाजें , लगाने लगीं बच्चे घर की तरफ चल पड़े, पक्षी भी अपने घोसलों में दुबक गए। वातावरण बिलकुल शांत हो गया।
और मालती को अपना बचपन याद आ गया, अंधियारा घिरते ही उसकी गली में आवाजें ही आवाजें होतीं . महिलायें -पुरुष काम से लौटते और उनके बीच झगडा शुरू हो जाता . चारो तरफ शोर ही शोर होता .  उसका अतीत रह रह कर उसकी आँखों  के समक्ष  घूम जाता। कभी सपने में भी नहीं सोचा था उसने, यूँ एक अच्छी सी सभ्य कॉलोनी में अकेली पूरी इज्जत के साथ रह पाएगी वह।
एक बजबजाती खुली नाली के पास उसका उसके बचपन का घर था  घर क्या  एक छोटा सा गन्दा सा कमरा , जिसमे मालती अपने माता-पिता और दो छोटे भाइयों  के साथ रहती थी । एक कोने में खाना बनता,...दुसरे कोने में थोड़ी सी पक्की जगह थी, जहाँ पानी भरी बाल्टी रखी  होती, वहाँ बर्तन धुलते और उसकी माँ स्नान करती। मालती और उसके दोनों भाई तो गली में लगे नल के नीचे ही नहा लिया करते और बापू तो हफ्ते दस दिन में एक दिन नहाया करता।  एक तरफ  टीन  के पुराने बक्से रखे थे जो आधे से ज्यादा खाली ही रहते। बीच में माँ की फटी हुई साडी बिछा वे तीनो भाई बहन सो जाते। सो क्या जाते सहमे से पड़े रहते . क्यूंकि थोड़ी रात बीतते  ही उसका पिता शाराब पीकर गालियाँ देते  हुए घर में आता। कभी खाना उठा कर फेंक देता , कभी माँ के लम्बे बाल घसीट कर उसे पीटता। एकाध बार मालती और उसके छोटे भाई माँ  को बचाने गए तो उन्हें भी पीट दिया। माँ भी बापू को जोर जोर से गालियाँ देती । पर उस गली के हर मकान का यही  किस्सा था। माएं दिन भर घर घर में बर्तन मांज कर पैसे कमा कर  लातीं , बच्चों को पालतीं, खाना बनातीं और फिर शाम को पति से पिटतीं । माँ के पैसे भी बापू छीन कर ले  जाता। 

ऐसे ही  माहौल में वो बड़ी हो रही थी। माँ की ज्यादा से ज्यादा मदद करने की कोशिश करती। पांच साल की उम्र से ही, घर में झाड़ू लगा देती। कच्ची -पक्की रोटी बनाने की कोशिश करती। माँ  के साथ काम पर भी चली जाती। उनके छोटे मोटे काम कर देती। वे लोग कुछ खाने को देतीं तो छुपा कर भाइयों के लिए ले आती। भाई सारा दिन धूल धूसरित गलियों में कंचे खेला करते या फिर साइकिल की टायर को पूरी गली में घुमाते रहते। 

जैसे तैसे दिन कट रहे थे वह आठ या नौ साल की थी जब कहर टूट पड़ा उस पर। एक दिन बापू माँ को पीट रहे थे, माँ भी गालियाँ दे रही थी। बस उस दिन पता नहीं बापू को क्या हो गया, उसने बगल में रखा केरोसिन तेल का डब्बा उठाया और माँ  के ऊपर डाल  कर आग लगा दी। माँ  चिल्लाने लगी, वो छोटे छोटे कटोरे से पानी डालकर आग बुझाने की कोशिश  करने लगी। गली के लोग भी आ गए। किसी ने दरी  डाला, किसी ने पानी और आग बुझा दिया। बापू बाहर भाग गया। बगल वाली  काकी माँ को अस्पताल ले गयी। कुछ दिन अस्पताल में रहकर माँ  वापस घर आ गयी। पर बेहद कमजोर हो गयी थी। वह ठीक  से चल भी नहीं पाती। नौ साल की उम्र  में घर का सारा भार उस पर आ पड़ा । माँ  जिनके यहाँ काम करती थीं वो शर्मा मालकिन एक दयालु महिला थीं। उन्होंने छोटे छोटे कामों के लिए मालती को रख लिया 

अब मालती सुबह उठती , घर का सारा काम करती। घर में जो भी राशन पड़ा होता आटा , चावल  बना कर रख देती। , कभी कभी कुछ भी नहीं होता। तो बगल के बनिए की दूकान से उधार डबल रोटी लाकर रख देती। उसमे से थोडा सा निकाल कर माँ के तकिये के पास छुपा देती .वरना पता था, दोनों भाई ,माँ   के लिए कुछ नहीं छोड़ेंगे। बाहर से बाल्टी में पानी भर भर कर लाती, माँ  को नहलाती,स्टूल पर खड़े होकर उनके लम्बे बाल धो देती  उनके कपडे साफ़ कर देती।  कुछ ही दिनों में छलांग लगा कर एक लम्बी उम्र पार कर ली थी, मालती ने। .माँ  आंसू पोंछती रहती। मैं किसी काम की नहीं, मर जाती तो अच्छा होता .वो भी साथ में रोने लगती तो माँ  चुप हो जातीं। इतना काम करने के बावजूद भी वो खुश रहती क्यूंकि घर में शान्ति थी। बापू पुलिस के डर  से उन्हें छोड़कर भाग गया था . मालती ,भगवान  से मनाती, वो कभी लौट कर ही  न आये।

लेकिन भगवान् ने उसकी नहीं सुनी।
करीब  एक साल के बाद एक रात बापू धड़धडाता हुआ घर में  घुस आया, "बहुत मजे कर रहे हो, तुमलोग मेरे बिना ?? तू मरी नहीं, अब तक ?? कितना कमाती है तेरी बेटी, ला पैसा ला। "

" इतनी छोटी उम्र में इतना काम  कर रही है, पूरा घर संभाल रही है, उसे तो छोड़ दे, " माँ  ने कराहते हुए कहा। 

"जुबान लड़ाती है।" कहता वो माँ की तरफ बढ़ा ही था कि वो बीच में आ गयी, "बापू बस बीस रूपया है, ले लो पर माँ को मत मारो।।"
" ला, जल्दी ला और वो थोड़ी सी जमा पूंजी बापू लेकर चलता बना 

माँ जो थोड़ी ठीक होने लगी थी, सब्जी काट देतीं, चावल बीन देतीं। किसी तरह खिसक कर दरवाजे के पास  बैठने लगी थी। बापू के आने के बाद ही फिर से  बीमार पड़ गयी। 

शर्मा मालकिन को बताया तो वे कहने लगीं, "सदमा लग गया है तेरी माँ को, डर गयी है बापू को  देखकर ।"
माँ  की सेहत दिन ब दिन गिरती गयी, उसने खाना -पीना छोड़ दिया और एक दिन उसकी मौत हो गयी। 

***

वह छोटे भाइयों को गले लगाकर बहुत रोई। बापू से उसे बहुत डर  लगता था। पर अच्छा था  
 बापू दिन भर गायब रहता,देर रात घर आता और थोड़ी बक झक के बाद शराब के नशे में सो
 जाता। उसने अब एक दो और घरों में काम करना शुरू कर दिया। वह मन लगाकर मेहनत  से काम करती। कभी किसी का कोई सामना नहीं छूती। साफ़ सुथरी रहती। सलीके से कपडे पहनती बाल बनाती, सभी मालकिन उसके काम से बहुत खुश रहतीं। अपनी बेटियों के चप्पल, कपडे, उसके भाइयों के लिए भी पुराने शर्ट -पैंट दे देतीं। 

दिन गुजर रहे थे। कुछ दिन से बापू बड़े प्यार से बातें करता  घर में डांट डपट नहीं करता। उस से पैसे भी नहीं मांगता। उसे थोडा आश्चर्य हो रहा था। एक दिन बापू दो आदमियों के साथ आया।
 उस से कहा, "पानी ला ..चाय बना।"
 उसने डरते डरते चाय बना कर दे दिया। पर गौर कर रही थी, चाय बनाते हुए भी वे दोनों आदमी  उसे गौर  से देख रखे थे। दुपट्टे से उसने खुद को जितना हो सकता था, ढक लिया। उसे लगा बापू शायद उसकी शादी करने की सोच रहा है। वो तो कभी नहीं करेगी शादी। उसे कमा कर पैसे नहीं लाने और पति से मार नहीं खानी । उसकी बिरादरी में सब ऐसा ही करते हैं।

चाय पीने के बाद, बापू उन आदमियों के साथ बाहर चला गया। थोड़ी ही देर बाद उसका छोटा भाई  दौड़ता हुआ घर में  आया। 

"दीदी, बापू तुझे उन आदमियों के हाथों बेच रहा है"

"क्या  "आश्चर्य से उसका मुहं  खुला रह गया।

"हाँ .. दीदी, उस आदमी ने बापू को बड़े बड़े नोट दिए हैं। मैं अँधेरे में से छुप कर सब देख रहा था। और उसने कहा कि  बाकी पैसे लड़की को ले जाने आऊंगा तब दूंगा।"
अब  वो क्या करे  उसका दिमाग तेजी से चलने लगा। उसने दोनों भाइयों को पास बिठाया और कहा," देखो शर्मा मालकिन की बहन आयी थी  बम्बई से वे मुझसे कह  रही थीं, साथ चलने को, उनके यहाँ बम्बई में काम करने के लिए। मैं नहीं गयी कि  तुमलोगों का ख्याल कौन रखेगा। पर अब अगर नहीं गयी तो बापू मुझे बेच देगा, तुम दोनों बड़े हो गए हो , अब अपना ध्यान रख सकते हो .मैं शर्मा मालकिन को हाँ बोल देती हूँ।"

दोनों भाई रुआंसे हो गए। छोटा भाई तो डर कर उस से लिपट गया, 'ना दीदी मुझे भी अपने साथ लेती जाओ।।"

चौदह साल के बड़े भाई ने बड़े-बुजुर्ग सा समझाया , "नहीं दीदी को जाने दे छोटे। जब हम और बड़े हो  जायेंगे अच्छा कमाने लगेंगे तो अलग घर में रहेंगे फिर दीदी को बुला लेंगे। "


उसका मन भर आया। पर यह कमजोर पड़ने का समय नहीं था। उसने तेजी से अपनी चीज़ें इकट्ठी करनी शुरू कर दीं। बापू का क्या ठिकाना , उसे सुबह सुबह ही निकल जाना होगा, शर्मा मालकिन बहुत भली हैं।जबतक बम्बई  जाने का इंतजाम नहीं हो पाता । वे उसे अपने घर में  रहने की इजाज़त दे देंगीं। काम में देर हो जाने पर कितनी बार तो कहती हैं, "रुक जा रात को यहीं।' वो उसकी मुश्किल जरूर समझेंगी।
शर्मा मालकिन तो बापू की बात सुनते ही आग बबूला हो गयीं। उसके कुछ कहने से  पहले ही कहा, " अब तू उस घर में पैर मत रखा रखना, यहीं रह मेरे पास। पीछे आँगन  में जो कमरा है, उसे साफ़-सूफ करके उसी  में रह जा। अब उस राक्षस के घर में मत जा "

उसने बताया कि यहाँ  रहना ठीक नहीं होगा । बापू शायद आपसे भी झगडा करे। मुझे शेफाली दीदी के यहाँ बम्बई  भेज दीजिये। वो जब यहाँ आयी थीं तो बार बार कहती थीं  न , "दीदी इसे मुझे दे दो।।"
"हम्म ये ठीक रहेगा, शेफाली के पास रहेगी तो मुझे भी चिंता नहीं होगी। वो तो कई बार कह चुकी है। आज ही उसे फ़ोन करती हूँ। पर तुम चिंता मत करो।" "
शर्मा मालकिन का माँ का सा स्नेह देखकर उसका मन पिघल गया। अगर भगवान एक  तरफ से कष्ट देता है तो दूसरी तरफ से कई हाथ उस कष्ट से बचाने के लिए भी देता है। 

दो दिन बाद ही शेफाली दीदी के यहाँ जाने के लिए शर्मा मालकिन ने उसे बम्बई  की ट्रेन में लेडीज़ कूपे में  बिठा दिया। आस-पास वालों को उसका ख्याल रखने को कह दिया अपना फोन नंबर भी दे दिया ताकि वो जब चाहे भाइयों से बात करती रहे। 

शेफाली  दीदी उसे स्टेशन  पर लेने आयी थीं। शेफाली  दीदी भी शर्मा मालकिन की तरह ही दिल की बहुत अच्छी थीं। उसका बहुत ख्याल रखतीं पर उसे उनके घर का माहौल रास नहीं आता। शेफाली दीदी के पति फिल्मो में कुछ करते थे। हमेशा उनके यहाँ लोगों की भीड़ लगी होती। देर रात तक पार्टियां होतीं। दिन- रात  का कोई भेद ही नहीं होता। अजीब अजीब से लोग उनके घर आते, फटी जींस वाले ,लम्बे बालों वाले, लगातार सिगरेट फूंकते हुए। सबलोग शराब पीते, देर रात तक उनके ठहाके गूंजते। उसे बहुत अजीब सा लगता . कई लोग कभी-कभी उसे घूर कर भी देखते, उसे बिलकुल अच्छा नहीं लगता। वो इस माहौल  से निकल जाना चाहती थी। 
वो जब सब्जियां लेने जाती तो पास की एक आंटी भी अक्सर मिलतीं  . वो उस से बड़े प्यार से बातें करतीं और एक दिन उसने अपने मन की उलझन उनके सामने रख दी और पूछ लिया , "आप मुझे कहीं और काम दिलवा दीजियेगा ?" 

उन्होंने उसकी समस्या समझी और कहा, "कोशिश करेंगे " 

और एक हफ्ते बाद ही वे रास्ते में उसके इंतज़ार में ही खड़ीं  थीं। उनकी एक सहेली को पूरे दिन के लिए एक लड़की चाहिए थी। सहेली और उसके पति दोनों नौकरी करते थे , उनकी एक छोटी सात साल की बेटी थी , जिसकी देखभाल के लिए उन्हें कोई अच्छी सी लड़की चाहिए थी। आंटी बार बार अपनी सहेली के अच्छे  स्वभाव की बात कर रही थीं। 

मालती को भी ऐसा ही शांत माहौल चाहिए था। इस घर में आकर उसे बहुत अच्छा लगा। शालिनी प्यारी सी शांत सी लड़की थी। लड़की की माँ  जिन्हें वो शोभा दीदी कहा करती थी। वे भी मीठा बोलने वाली थीं। किसी बात पर डांटती नहीं। घर का सारा  भार उसे सौंप दिया था। वे सुबह सुबह ऑफिस चली जातीं, शाम में घर वापस आतीं, पूरे घर की जिम्मेवारी मालती की ही थी अब । वह भी बहुत मन लगाकर काम करती। शोभा दी भी उसके काम में मीन-मेख नहीं निकालतीं। उसे अपनी बेटी जैसा ही मानती .  बेटी के लिए चॉकलेट , आइसक्रीम  लातीं  तो उसके लिए भी लातीं । शनिवार रविवार जब उनकी छुट्टी रहती तो  घर के  कामों में भी हाथ  बटाती । शोभा दी के पति अपने काम से मतलब रखते अखबार पढ़ते, फोन पर बात करते या फिर कंप्यूटर पर कम करते रहते । वे अक्सर टूर पर भी जाया करते . 

दो साल के बाद शोभा  दी का ट्रांसफर एक छोटी सी जगह पर हो गया। वहां उनकी बेटी शालिनी के लिए अच्छे स्कूल नहीं थे। शोभा  दी नयी जगह पर चली गयीं। उनके पति भी अक्सर टूर पर चले जाते . पूरा घर मालती अकेले संभालती। सीमा दी पूरे घर के खर्च के पैसे उसके हाथों में दे देतीं . मालती एक एक पैसे का हिसाब रखती । घर की देखभाल करती । शालिनी का ख्याल रखती .

मालती बहुत निडर और हिम्मती भी थी। किसी से नहीं डरती .  एक बार बिल्डिंग के वाचमैन ने कुछ छींटाकशी की उसपर, मालती ने वहीँ चप्पल निकाली और दो चप्पल लगा दिए। पूरे इलाके में यह बात फ़ैल गयी । अब आस-पास की बिल्डिंग के वाचमैन , ड्राइवर सब उस से डर कर रहते। वो नीचे सब्जी भी  लेने भी जाती तो सब उस से सहम कर नज़रें नीची कर के बात करते। मालती भी यह  दिखाने के लिए कि वह किसी से नहीं डरती , सबसे बहुत रूखे स्वर में बात करती। मुश्किल ये हो गयी कि यह उसकी आदत में शुमार हो गया।
अब वह घरवालों से भी रुखा ही बोलती। खुद को घर की मालकिन समझती, क्यूंकि शोभा दी महीने में एक बार ही आतीं। घर के  सारे निर्णय वही लेती, कौन से परदे लगेंगे, कौन सी चादर बिछेगी, कौन सी चीज़ कहाँ कहाँ रखी जायेगी शोभा दी को ये सब अच्छा नहीं लगता। पर उसकी ईमानदारी , काम के प्रति लगन, अपना घर समझकर काम करना , पूरी जिम्मेवारी उठाना, शालिनी को बहुत सारा प्यार देना, ये सब देखकर वे चुप रहतीं।

अब मालती के पास काफी समय रहता। शालिनी ने उसे पढना-लिखना सिखाना शुरू किया। उसे भी पढने में बहुत दिलचस्पी हो गयी। जरा सा भी खाली वक़्त मिलता तो वह किताबें लेकर बैठ  जाती। शालिनी भी अच्छी टीचर थी, उसे बहुत मन से पढ़ाती। स्कूल जाती तो उसे होमवर्क  देकर जाती। और अगर वो होमवर्क नहीं करती तो उसे सजा देने के लिए शालिनी  खुद खाना नहीं खाती। फिर उसे शालिनी का घंटों मनुहार करना पड़ता। अब वो जल्दी से घर का  काम ख़त्म कर होमवर्क करने लगी। धीरे धीरे वह अंग्रेजी के कॉमिक्स, चंदा मामा , चम्पक से शुरुआत कर , पत्रिकाएं , अखबार सब पढने लगी। शालिनी के साथ अंग्रेजी के प्रोग्राम देखते हुए वो अच्छी तरह अंग्रेजी समझने लगी। शालिनी भी उसे सिखाने के लिए ,उस से ज्यादातर अंग्रेजी में ही बात करती। अब मालती बाहर जाती तो अंग्रेजी में ही बोलने की कोशिश करने लगती। शोभा  दी की सहेलियां, या उनके पति के दोस्त घर आते तो उसे देख दांग रह जाते। कई लोग तो उसे घर का सदस्य ही समझ लेते। 

जब तीन साल बाद शोभा दी का ट्रांसफर वापस इस शहर में हो गया तो शोभा दी ने मालती  से कहा कि  'अब वो उसकी शादी कर देना  चाहती हैं '. उसकी रूह काँप गयी। उसके  अपने माता-पिता का जीवन आँखों के सामने आ गया और गली के और लोगों का जीवन भी। महिलायें हाड तोड़ कर कमाती और उनके पति शराब के नशे में उन्हें मारते भी और उनके पैसे भी छीन कर ले जाते। उसे नहीं चाहिए थी ऐसी ज़िन्दगी। और उसने शोभा  दी से साफ़ कह दिया, उसे शादी नहीं करनी ,अगर वे उसे नहीं रखना चाहतीं तो वह दूसरी जगह कोई काम देख लेगी पर आजीवन शादी नहीं करेगी  । ये उसका अंतिम फैसला है।


शोभा दी ने उसकी बात मान ली । मालती बीच बीच में अपनी  शर्मा मालकिन के यहाँ फोन करके भाइयों का हालचाल लेती रहती। पता चला दोनों भाई एक कारखाने में नौकरी करने लगे हैं और पिता से अलग रहते हैं। दोनों ने शादी भी कर ली। उसे बहुत बुला रहे थे, 'एक बार आकर मिल जा'। शोभा दी ने भी ख़ुशी ख़ुशी उसे छुट्टी दे दी और  भाइयों के लिए ढेर सारे उपहार भी खरीद कर दे दिए। अब तक का उसका सारा वेतन भी जोड़ कर दे  दिया।

वहां जाकर उसने सारे पैसे भाइयों को दे दिए। उपहार तो दिए ही,  भाभियों को उसके जो भी कपडे पसंद आते, वो दे देती। जब लौटने का समय आया तो उसने पाया उसके पास बस दो जोड़ी कपडे बचे हैं। फिर भी उसने सोचा, उसके लिए काफी हैं। अभी जायेगी तो शोभा दी खरीद ही देंगीं और दो महीने के बाद उसके पास भी उसके वेतन के काफी पैसे जमा हो जायेंगे . वह जो चाहे खरीद लेगी। पर जब वापस काम पर आयी उसके दस दिन बाद ही उसकी भाभी ने एक पत्र भेजा अब  खुद लिखा या किसी और से लिखवा कर भेजा पर पत्र   का मजमून था कि  "'आप इतने दिन यहाँ रहीं, आपको अच्छा खिलाने-पिलाने के लिए हमें क़र्ज़ लेना पड़ा। अब उनके पैसे लौटाने हैं। आप पैसे भेज दो।" उसने वो पत्र  फाड़ कर फेंक दिया और फिर भाइयों के घर कभी  नहीं गयी। शोभा दी का घर ही ,अब उसका घर था।

 शालिनी बड़ी होती गयी। उसने कॉलेज पास किया और नौकरी भी करने लगी। उसकी शादी हो गयी। मालती बहुत अकेलापन महसूस करने लगी और उसी दरम्यान एक हादसा हो गया . सीढियों से फिसल कर उसने अपनी कमर की  हड्डी तुडवा बैठी। शोभा दी ने उसके इलाज़ का पूरा खर्च उठाया। हॉस्पिटल में उसके साथ रहीं। शालिनी ने भी ऑफिस से छुट्टी लेकर ,उसकी अच्छी देखभाल की . घर पर भी उसे पूरा आराम दिया। पर पूरी तरह ठीक होने के बाद भी अब वह पहले की तरह काम नहीं कर पाती। झुक नहीं पाती। जल्दी जल्दी काम नहीं निबटा पाती । मालती को बहुत बुरा लगने लगा। उसे लगने लगा , वो शोभा दी पर बोझ बन गयी है। मालती बार-बार उनसे मिन्नतें करने लगी  कि अब उसे छुट्टी दे दें . अब वो पहले की तरह उनके काम नहीं आ पाती। उसकी इलाज़ पर भी इतना खर्च हो गया है। वो कहीं और काम  करके अपना जीवन गुजार लेगी। उनपर बोझ  नहीं बनना चाहती  

पर उसने नाजुक वक़्त में शोभा दी की गृहस्थी संभाली थी ,उनकी अनुपस्थिति में उनकी बच्ची की प्यार से देखभाल की थी।  ये वो नहीं भूल पायीं थीं और उन्होंने एक छोटा सा फ़्लैट खरीद कर मालती को रहने के लिए दे दिया। शालिनी और शोभा दी ने फ़्लैट में सारा सामान भी जुटा दिया। उसे हर महीने खर्च के पैसे भी देतीं। शालिनी की गोद में एक नन्हा मुन्ना भी आ गया। मालती रोज शालिनी के घर जाकार उसके बच्चे की देखभाल करती  , घर के कामों में हाथ बंटाती। पर यह सब वह अपनी ख़ुशी से करती । उस पर किसी किस्म की बाध्यता नहीं थी।  इस छोटे से घर में वो अब अपनी मर्जी की मालकिन थी। 

चाय कब की ख़त्म हो चुकी थी। बाहर अँधेरा घिर चुका था। मालती सोचने लगी, कितने भी कष्ट आयें जीवन में अगर अपने कर्म अच्छे रखो तो अच्छे लोगों का साथ मिल ही जाता है।  अगर उसने सही समय पर सही निर्णय लेने की हिम्मत नहीं दिखाई होती अपना काम  मेहनत ,लगन और ईमानदारी  से नहीं किया होता तो आज वह इस शांतिपूर्ण जीवन की हक़दार नहीं होती।

उस दिन मालती को पार्क में रोज आ कर बैठने  वाले एक उम्रदराज़ अंकल ने एक शेर सुनाया था ,उसे पूरा समझ तो नहीं आया पर अपने पर सही लगा 

"दुःख  सबके मश्तरक हैं पर हौसले  जुदा 
कोई बिखर गया तो कोई मुस्करा दिया "

{दीपावली के मौके पर आशा और विश्वास भरी, नैराश्य से आस की ओर , अंधियारे से उजाले की ओर कदम बढ़ाती ये कहानी (पता नहीं अपनी लिखी कहानी के लिए ऐसा कहना चाहिए या नहीं पर अब तो कह दी :) )पोस्ट कर खुद ही अच्छा लग रहा है जबकि ये महज संयोग ही है ...

ये कहानी आकाशवाणी के लिए लिखी थी, जहाँ 9 मिनट में कहानी समेटनी पड़ती है। शायद आप सबकी अपेक्षाओं पर खरी न उतरे, 
पर वापस दुबारा लिखूंगी, इस चक्कर में कई बार लिखने का वक़्त भी नहीं मिला और स्क्रिप्ट भी खो गयी, कुछ कहानियाँ गुम  हो गयी हैं, इसलिए इसे वैसे का वैसा ही बिना कोई सुधार किये ब्लॉग पर डाल  दिया, आप सब तो झेल ही लेते हैं मेरा कुछ भी लिखा :):)



आप सबको दीपावली की असीम शुभकामनाएं 

भारतीय घरों का सच दिखाती फिल्म : The great indian kitchen

  The great indian kitchen फिल्म देखते हुए कई चेहरों का आँखों के समक्ष आ जाना लाज़मी है। हर मध्यमवर्गीय भारतीय महिला अपनी जिंदगी में कभी न कभ...