Tuesday, September 7, 2010

इरफ़ान पठान की प्यारी मुस्कान के पीछे छुपा सच्चा दिल

आजकल टी.वी. और अखबारों में एक ही खबर सुर्ख़ियों में है...'मैच फिक्सिंग '

पाकिस्तान के खिलाड़ियों की छुपी कारस्तानियाँ जग-जाहिर हो रही हैं. ऐसे में जब किसी खबर पर नज़र पड़ती है कि किसी खिलाड़ी ने प्रलोभन को कैसे ठुकराया  तो मन खुश हो जाता है...और उस पर वो खिलाड़ी भारतीय हो और फिर पसंदीदा इरफ़ान पठान  हो...फिर तो क्या बात है.

 MId Day अखबार के रविवारीय संस्करण में एक खबर पढ़ी. जिसे यहाँ बांटने का मन हो आया.

मोहम्मद आसिफ एवं इरफ़ान पठान में कई सारी  बातें सामान्य हैं. दोनों ही समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग से हैं. इरफ़ान ने बड़ौदा की गलियों में क्रिकेट खेलना सीखा और आसिफ ने शेखुपुरा जैसे छोटे से शहर में. दोनों ने अपनी मेहनत, लगन और प्रतिभा के बल पर अपने देश की राष्ट्रीय टीम में जगह पायी. लेकिन समानताएं यहीं समाप्त हो गयीं.

आसिफ, ने जहाँ 'मजहर माज़ीद' के दिए लालच के सामने घुटने टेक दिए. (दरअसल घुटने नहीं...अपने पाँव बढ़ा दिए नो बॉल  के लिए :)) वहीँ इरफ़ान खान ने अपने पैर मजबूती से जमीन पर ही जमाये रखे (और पौपिंग क्रीज़ के अंदर  भी ) और किसी भी तरह के प्रलोभन की तरफ देखने से भी इनकार कर दिया.

ICC के अनुसार जब इरफ़ान पठान लन्दन में थे. एक अजनबी  व्यक्ति हमेशा, उनसे होटल की लौबी में मिलने आता और खुद को उनका अनन्य प्रशंसक बताता. अक्सर "मैच फिक्सर ' किसी भी खिलाड़ी को अप्रोच करने का यही तरीका अपनाते हैं.

कुछ दिनों की 'हलो', 'हाय'  के बाद उक्त प्रशंसक ने इरफ़ान को क्रिकेट से सम्बंधित बहुत सारी सामग्री ,जूते, क्रिकेट पैड, ग्लब्स वगैरह भिजवाये जो यूरोपियन मार्केट के हिसाब से भी कई लाख के थे. और साथ में यह सन्देश भेजा कि 'एक प्रशंसक की तरफ से यह एक सप्रेम  भेंट है'

इरफ़ान यह देख बिलकुल घबरा गए और तुरंत ही यह बात एक सीनियर खिलाड़ी को बतायी. उस सीनियर खिलाड़ी  ने उन्हें यह बात , टीम के मैनेजर को रिपोर्ट करने को कही. और 'टीम मैनेजर' ने इसकी रिपोर्ट ICC को कर दी. इरफ़ान पठान ने वह सारी भेंट वापस कर दी. ICC की anti corruption unit को यह रिपोर्ट देने  के बाद क्या कार्यवाही की गयी.यह प्रकाश में नहीं आया. पर यह तो सच है इरफ़ान पठान की ईमानदारी ने उन्हें एक भयंकर दलदल में फंसने से बचा लिया वरना यही  सब कुछ होता  जो  आज उन खिलाड़ियों एक साथ हो रहा है.

'मिड डे' अखबार ने ICC की anti corruption unit को इस सम्बन्ध में एक मेल भेजा पर उनलोगों ने कोई भी जानकारी  देने से इनकार  कर दिया. क्यूंकि मामले की गोपनीयता बनाए रखनी होती है.

इरफ़ान पठान अभी सिडनी में अपनी एक चोट   का इलाज़ करवा रहें हैं .BCCI ने ही भेजा है उन्हें.उनके CT scan और MRI रिपोर्ट देख Dr. John Orchard  ( sports physician ) ने भारतीय टीम के Physio (Paul Close ) को बताया कि  इरफ़ान पठान को इलाज़ के लिए कुछ दिन और सिडनी में  रहना पड़ेगा. इरफ़ान पठान ने इस घटना को अस्वीकार नहीं किया पर आगे कुछ बताने से  यह कर इनकार कर दिया कि इतनी दूर से फोन पर बताना संभव नहीं और उन्हें कुछ बताने से पहले BCCI की  सलाह भी लेनी पड़ेगी.

आगे जो भी कार्यवाई हुई हो लेकिन ,इरफ़ान पठान ने लालच के सामने सर नहीं झुका कर हम भारतीयों का सर जरूर गर्व से ऊँचा कर दिया है.

(वैसे इरफ़ान के लिए यह ऑस्ट्रेलिया प्रवास , रुचिकर ही होगा क्यूंकि उनकी मंगेतर 'शिवानी देव' ऑस्ट्रेलिया की ही रहने वाली हैं और दोनों बहुत जल्द ही बड़ौदा में विवाह सूत्र में बंधने वाले हैं )

(कृपया अपनी प्रतिक्रिया  में किसी देश विशेष  को भला-बुरा कहने से परहेज़ करें )

39 comments:

  1. कुछ बात है कि हस्ती मिटटी नहीं हमारी
    सदियों रहा है दुश्मन दौरे जहाँ हमारा..

    शायद यही वजह हो..कि अभी भी हिंदुस्तानियों में अपने फ़र्ज़ और देशप्रेम की भावना बाकि है.

    ReplyDelete
  2. अरे वाह……………यही तो हिन्दुस्तान की मिट्टी की बात है जो कुछ भी गलत करने से रोकती है।
    तभी तो कहते हैं -------मेरा देश महान

    ReplyDelete
  3. शाबाश इरफान! सावधानी हटी, दुर्घटना घटी स्लोगन का रखा आपने ध्यान...और बढ़ाया देश का सम्मान...।

    ReplyDelete
  4. क्रिकेट के बारे में इतने सारे नकारात्मक खबरों के बीच चलो कुछ तो सकारात्मक खबर मिली। अच्छा लगता है ऐसी उत्साहवर्धक खबरें जब पढ़ने मिलती हैं वरना तो इस तरह की खबरें छापना लगता है अखबार वालों ने बंद कर दिया है।
    (ऐसा नहीं है कि अच्छी बातें दुनिया में नहीं होती, लेकिन उस पर अब ध्यान कम ही अखबार दे पाते हैं)

    खबर को साझा करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. प्रलोभन ऐसी चीज़ है जो बड़ो बड़ो के ईमान को डिगा जाती है. इरफ़ान पठान इस काजल की कोठरी से पाक साफ निकल आये , साधुवाद के पात्र है और हम उनको, उनकी भविष्य में होने वाली शादी की अग्रिम शुभकामनाये देते है.

    ReplyDelete
  6. आज जब हर कोई वो काम कर रहा है जो उसे नहीं करना चाहिए.. ऐसे में इरफ़ान ने अपने कर्त्तव्य को बखूबी समझा और निभाया. इसके लिए वो प्रशंसा का पात्र है.

    ReplyDelete
  7. irfaan shuru se mujeh pasand rahe hai apne attitude ke kaaran. gareebee se aage nikalkar chamakne waalo ke liye vo ek udaharan hai.

    ReplyDelete
  8. एकदम खरा बयान है आपका... देस बिसेस के बारे में कहना हमको भी उचित नहीं लगता है... लेकिन एगो बात कहे बिना नहीं रह पा रहे हैं..आसा है छमा कर देंगी... इरफान का ई देस का सर ऊँचा करने वाला कारनामा हो सकता है कि केतना लोगो के लिए मामूली घटना हो, केतना लोग दू चार दिन बाह्बाही करके भुला देंगे... लेकिन एकबार कल्पना कीजिए कि इरफान ऊ प्रलोभन सुइकार कर लेता अऊर पकड़ा जाता तो हमरे एहाँ का लोग उसको पूरा सम्प्रदाय बिसेस के खिलाफ बिरोध बना देता अऊर इसपर रोज चर्चा भी होता अऊर इसको लोग भुलाता भी नहीं.

    ReplyDelete
  9. रश्मि जी...

    वाह....आपने यह आलेख लिख कर हमारा सर गर्व से ऊँचा कर दिया है....इस प्रकार के आचरण से पठान ने खुद को एक सच्चा भारतीय साबित कर दिया है....ईश्वर उन्हें जल्द अच्छा करे और वो पुनः हमारी टीम में शामिल हो सकें....

    दीपक....

    ReplyDelete
  10. भ्रष्टाचार व्याप्त होते खेल में यह खबर ठंडी हवा का झोंके जैसा है।

    ReplyDelete
  11. अच्छी खबर के लिए आभार ...ऐसे लेखों से इमानदारी को बढ़ावा मिलता है ...

    देश का सिर गर्व से ऊँचा करने के बारे में हमारे नेता भी सोचें ...

    ReplyDelete
  12. irfaan jaisa koi nahi...! hum dua karte hei vo jaldi field par loutein.

    ReplyDelete
  13. मुझे गर्व है भारतीय होने पर।

    ReplyDelete
  14. इरफ़ान पठान की टीम में वापसी का इंतजार है ।
    बेशक अच्छा खलाड़ी है , और इंसान भी ।

    ReplyDelete
  15. मुझे नहीं मालूम था ये...अच्छा लगा जान कर...
    इरफ़ान पठान मेरे फेवरिट क्रिकेटर में से एक हैं, अलग बात है की आजकल फॉर्म में नहीं हैं.

    ReplyDelete
  16. इरफ़ान खान का धन्यवाद, लेकिन क्या सभी भारतिया खिलाडी इरफ़ान खान है? जो कभी हारते है तो कभी एक रन के लिये संस्पेंस बना देते है.... पता नही , लेकिन कईयो पर हमे शक है,इस लिये हम किसी भी बात नही करते.

    ReplyDelete
  17. इस खबर को शेयर करने के लिये शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  18. satish pancham ji se 1oo% sehmat hu...

    shukriya

    ReplyDelete
  19. अच्छा लगा इरफान के विषय में जानकर. उम्मीद की किरण बाकी रहती है.

    ReplyDelete
  20. भारत का धर्म पैसा नहीं है और ना ही व्‍यक्तिगत चिंतन। हम हमेशा समाज के लिए जीते हैं अत: जो भी खिलाडी भारतीय संस्‍कारों से संस्‍कारित है वह कभी भी पैसे के कारण ऐसे कृत्‍य नहीं करेगा। अच्‍छी पोस्‍ट बधाई।

    ReplyDelete
  21. मेरा भारत महान! ...........

    ReplyDelete
  22. thanks.. i was not aware abt this earlier...

    I like this
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया में किसी देश विशेष को भला-बुरा कहने से परहेज़ करें.. :)

    ReplyDelete
  23. ाच्छी खबर है जय हिन्द।

    ReplyDelete
  24. ऐसी सकारात्मक और सच्ची खबरे का जिक्र ज्यादा से ज्यादा होना चाहिय अगर हर इन्सान ऐसे प्रलोभनों को ठुकरा दे तो क्या भ्रष्टाचार दम नहीं तोड़देगा भारत में ?
    ऐसी ईमानदारी ,और देश के लिए प्रतिबध्धिता ही इन्सान का कद बढाती है और देश का गौरव बरकरार रखती है |
    एक गर्व की खबर को सुन्दर विचारो के साथ सबके साथ बाँटने का आभार |

    ReplyDelete
  25. बहुत अच्छी बात से परिचित कराया, ये तो ईमान की बात है इसमें देश का कोई दोष नहीं. हर जगह हर तरह के लोग हैं. वैसे ये हमारे लिए फख्र की बात है और इरफान इसके लिए बधाई के पात्र है.

    ReplyDelete
  26. एक अच्छी और सकारात्मक पोस्ट. पढ़कर अच्छा लगा और ये भी अच्छा लगा कि आपने इसे इतने बेहतर तरीके से प्रस्तुत किया.

    ReplyDelete
  27. andhere mei roshni, cricket ko bechne walo ke beech mei isko bachane wale andhere mei roshni kee tarah hai, jo is khel ke ujale ko barkaraar rakh rahe hai

    good post & inspirational post

    ReplyDelete
  28. मुझे आपकी इस पोस्‍ट में सबसे अच्‍छी बात यह लगी कि आपने यह आगाह किया किसी देश विशेष की आलोचना करने से बचें। और उससे भी अच्‍छी बात यह लगी कि टिप्‍पणीकारों ने उसका ध्‍यान रखा। आपको,सबको बधाई। और इरफान तो हैं ही ऐसे। और वह कहीं भी हो सकते हैं और लालच में आने वाले भी कहीं भी हो सकते हैं। सच तो यह है कि वह देश के नाम से तय नहीं होता। अंदर के ईमान से तय होता है। वरना हमारे देश में भी क्रिकेटर इस आरोप की सजा भुगत रहे हैं।

    ReplyDelete
  29. Bahut sundar post---acchha laga padhkar.
    Poonam

    ReplyDelete
  30. अच्छी लोग अच्छी बातें !

    ReplyDelete
  31. अच्छी पोस्ट. अनुकरणीय काम किया है पठान ने.

    ReplyDelete
  32. गहन अन्धकार और निराशा के पलों में इतनी सुखद घटना मन को आल्हादित कर गयी ! वरना तो देश में व्याप्त भ्रष्टाचार की खबरों ने आम इंसान को तोड़ कर रख दिया है ! देश के आकाश में इरफ़ान सदैव ध्रुव तारे की तरह चमकते रहें यही कामना है ! सार्थक आलेख के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  33. जिस देश में भ्रष्टाचार का बोलबाला है , इरफ़ान पठान का लालच के आगे ना झुकना प्रशंसनीय है और उससे भी ज्यादा अच्छा लगा तुम्हारा इस पर लिखना ...
    हजार निराशाओं में एक उम्मीद की कारण जहाँ नजर आये , नजर वहां टिकायें ...रौशनी यूँ ही फैलाती रहें ..!

    ReplyDelete
  34. बहुत अच्छा लगा देशप्रेम से भरी पोस्ट देखकर ... आज जहाँ देश में बहुत सी जगह देशप्रेम की भावना सबसे बाद में दिखती है वहीँ ऐसे ही सकारात्मकता की जरुरत है, जिससे हर एक देशवासी सबसे पहले देश के बारे में कुछ भी करने से पहले सोचे कि इसका हमारे देश की आन-बान-शान पर क्या असर होगा..
    बहुत सार्थक, शिक्षाप्रद आलेख ... आभार

    ReplyDelete
  35. यही तरीका है स्वयं को बचाए रखने का और यही अपेक्षित भी हई।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  36. सच यही है कि बाज़ार ने क्या खेल, क्या फिल्म, क्या कला…सबको दूषित कर दिया है…ऐसे में जिन्होंने न्यूनतम नैतिकता बचाये रखी है…उनको सलाम!

    ReplyDelete
  37. ओह ! मुझे ये खबर नहीं पता थी, पर वैसे ही इरफ़ान मुझे बहुत पसंद है. अच्छे-बुरे लोग हर जगह होते हैं और इन्हीं भले लोगों से दुनिया में इमानदारी कायम है.

    ReplyDelete