सोमवार, 16 अगस्त 2010

राखी का ऋण

काफी साल पहले,  धर्मयुग में एक कविता पढ़ी थी....और डायरी में नोट कर ली थी (अब अफ़सोस  हो रहा है,कवि का नाम क्यूँ नहीं नोट किया..)...और उसी हफ्ते अखबार में इसी कविता के भाव से सम्बंधित एक खबर पढ़ी कि एक भाई, अपनी बहन के पति को  मोटरसाइकिल देने के लिए कुछ पैसे जमा कर  बहन से राखी बंधवाने पहुंचा तो पता चला, एक दिन पहले उसी मोटरसाइकिल के लिए उसकी बहन  जला दी गयी है. उसके बाद से कोई राखी ऐसी नहीं गुजरी कि मुझे वो खबर और ये कविता याद ना आई हो. और ये ख़याल ना आया हो कि पता नहीं आज राखी के दिन कितने भाई पूरी बाहँ की कमीज़ पहने घूम रहें होंगे क्यूंकि दहेज़ की वेदी पर उनकी बहन की बलि चढ़ा दी गयी.

ये पोस्ट उन सभी भाइयों को समर्पित है जन्होने किसी ना किसी कारण अपनी बहन को खो दिया है.

राखी के अवसर पर सबका मन  ख़राब ना हो,इसलिए ये कविता काफी पहले ही पोस्ट कर रही हूँ. राखी पर एक खुशनुमा पोस्ट लिखूंगी....वादा :)




राखी का ऋण


पूरी बाहँ की कमीज़ पहने घूमा  मैं,रक्षा बंधन के दिन,
बहना तुम बिन

बचपन बीता ,
सुहाग का जोड़ा ओढ़े
चली गयी तुम
संबंधों की मरीचिका में ,वहाँ
मृगी सी छली गयी तुम

धूप ने जब जब तुम्हारा
मन सुलगाया
लिखा तुमने
सकुशल हो
पत्र तुम्हारा जब भी आया

दुर्गन्ध, ओह! वह दुर्गन्ध
जली हुई देह की
होठों पे
अम्मा का नाम
आँखों में याद
बाबूजी के नेह की

किंकर्त्तव्यविमूढ़ सा
खड़ा हूँ, चुपचाप

यही सोच कटेंगे,अब
हर पल छिन
चुका नहीं पाया ,मैं
राखी का ऋण

40 टिप्‍पणियां:

  1. बस स्तब्द्ध हूँ ..क्या कहूँ ? सोचा भी नहीं जा रहा .

    जवाब देंहटाएं
  2. अभी मैं राखी पर कुछ लिखने की सोच ही रही थी कि आपकी पोस्‍ट आ गयी। बहुत ही मर्मान्‍तक कविता है। लेकिन ये ही भाई जब पति बनते हैं तो क्रूर क्‍यों हो जाते हैं?

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत मार्मिक कविता प्रस्तुत कर दी है आज तो ....

    जवाब देंहटाएं
  4. मर्मान्तक , दहेज़ की बलिवेदी, ना जाने कितने भाइयो की कलाई सुनी कर जाती है हर साल . मानवता के नाम पर कलंक लेकिन अभी भी निरंकुश.

    जवाब देंहटाएं
  5. इस कविता और पोस्ट ने ना सिर्फ रुलाया बल्कि दहलाया ज्यादा है... दहेज़ उत्पीडन की इस भयावहता को आज सभी महसूस करते हैं पर रोकने को आगे कितने बढ़ते हैं.. ऊपर से अब कोर्ट की दादागिरी
    .. तकलीफ यही है कि जो इसे दुखद और दर्दनाक बोलेंगे उनके हाथ भी दहेज़ के कीचड़ में सने ही होंगे कभी ना कभी.. लेने में नहीं तो देने में ही....

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत मार्मिक मुद्दा उठाया हैं आपने.
    क्या कहूँ, कुछ समझ में नहीं आ रहा हैं.
    चुप हूँ, मौन धारण करता हूँ उनकी आत्मा की शान्ति के लिए, जो असमय चले गए.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    जवाब देंहटाएं
  7. रश्मि जी...

    आपकी कविता ने दिल में दर्द भर दिया...
    जो नहीं हो उसका दर्द फिर भी कम होता है, और अगर होके भी खो जाए तो उसका दर्द तो असहनीय ही होता है..

    दीपक...

    जवाब देंहटाएं
  8. दुखद हैं ऐसे प्रकरण ...
    बहन को ससुराल से माल बटोर लाने की शिक्षा देने वाले भाई -भौजाई खुद अपने घर में निर्मम हो जाते हैं ...

    जवाब देंहटाएं
  9. दुर्गन्ध, ओह! वह दुर्गन्ध
    जली हुई देह की
    होठों पे
    अम्मा का नाम
    आँखों में याद
    बाबूजी के नेह की ...

    बहुत मार्मिक ... असीम वेदना है इस रचना में ...
    काश दहेज के दानव ये सोच सकें की उनकी भी बहन है कहीं न कहीं .....
    भिगो गयी ये रचना अंदर तक ...

    जवाब देंहटाएं
  10. "राखी का ऋण"............कैसे कोई चुका सकता है…………बेहद मार्मिक्।

    जवाब देंहटाएं
  11. उल्लिखित घटना हौलनाक थी ! निंदनीय है !
    एक सार्थक कारण से लिखी गई कविता के लिए आपका आभार !

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत ही दर्दनाक कविता ।
    अच्छा किया पहले ही लगा दिया ।

    जवाब देंहटाएं
  13. रश्मि कविता अच्छी लगी किन्तु शीर्षक से सहमत नहीं हूँ। यह किस ऋण की बात कर रही हो? स्नेह के रिश्ते में ऋण कहाँ से आया? यदि भाई द्वारा कोई ऋण चुकाकर ही मुझे जीवन मिलता हो तो धिक्कार है ऐसे जीवन पर, नहीं चाहिए ऐसा जीवन।
    घुघूती बासूती

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत मार्मिक कविता प्रस्तुत कर दी..!
    लेकिन यह समाज की सच्चाई भी तो है...
    अगर भाई अपनी बहन का दुःख समझ जाएँ तो ज़रूर दूसरे की बहन का भी दुःख समझ जायेंगे...
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    कवि के प्रति आभार व्यक्त करती हूँ..उनके मन के उदगार मन में हलचल मचा गए हैं...

    जवाब देंहटाएं
  15. सच क्हूं तो मै एक दम से हेरान रह गया कि कोई अपनी पत्नि को भी जला सकता है? एक तुच्छ चीज के लिये..... अजीत जी की बात से सहमत हुं, जब कोई भी भाई पति बने तो उसे ख्याल रहे कि उस की भी बहन है....एक दम से सुन्न रह गया मै तो

    जवाब देंहटाएं
  16. मार्मिक कबिता है रश्मि जी! बस कुछ नहीं कहने का अनुमति दीजिए!!

    जवाब देंहटाएं
  17. बस स्तब्द्ध हूँ ..क्या कहूँ ? सोचा भी नहीं जा रहा .....



    आजकल मैं कमेन्ट चोर हो गया हूँ.... मैं जानता हूँ अभी आप दोनों मुझे कहेंगीं......... 'चोट्टा कहीं का'



    hi hi hi hi hi hi .....

    जवाब देंहटाएं
  18. दिल को छू लेने वाली पंक्तियाँ, अजित जी की बात भी विचारणीय है दोहरे मानदंड अपनाने वाले लोगों के लिए क्या हो सकता है? अपनी बहन बहुत प्रिय और दूसरे की बहन ?????

    जवाब देंहटाएं
  19. धर्मयुग में पढी हुई कविता.....बीस साल तो धर्मयुग के प्रकाशन को बन्द हुए हो गये...यानि? कुछ नहीं बदला...आज भी यही सब हो रहा है... बहुत मार्मिक रचना.

    जवाब देंहटाएं
  20. श्रीमत‍ि अजीत गुप्‍त जी की बात भी सही है .. लेकिन ये ही भाई जब पति बनते हैं तो क्रूर क्‍यों हो जाते हैं?

    जवाब देंहटाएं
  21. ऊपर लिखा गद्य-प्रसंग मन को दुखी करता है | इस दिन पर फुल बांह के कपड़े की व्यथा के मूर्त अनुभव से पहनने वाला कितना और किस तरह गुजरा होगा , हम तो बस इसका अनुभव ही कर सकते है ! सोचनीय !

    जवाब देंहटाएं
  22. आपकी संवेदना का शुरू से ही क़ायल रहा हूँ ...इस कविता को प्रस्तुत कर आपने हम सभी को स्तब्ध कर दिया है!!

    हमज़बान यानी समय के सच का साझीदार
    पर ज़रूर पढ़ें:
    काशी दिखाई दे कभी काबा दिखाई दे
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

    शहरोज़

    जवाब देंहटाएं
  23. राखी के दिन कविता का इंतज़ार रहेगा,
    फ़िलहाल इस कविता पे कहने के लिए कुछ नहीं है..क्या कहूँ?

    जवाब देंहटाएं
  24. किंकर्त्तव्यविमूढ़ सा खड़ा हूँ, चुपचाप....

    मैं भी.. कुछ कहने को नहीं है.

    जवाब देंहटाएं
  25. stabdh ? nahin , kuch anchahe lamhe aankhon se gujar gaye ... per achhi hun

    जवाब देंहटाएं
  26. aapkee kavitaa aur prastutikaran to laajawaab hai hee ajit ji ne jo mudaa uthaaya hai us par bheman bahut sochtaa hai

    जवाब देंहटाएं
  27. यही सोच कटेंगे,अब
    हर पल छिन
    चुका नहीं पाया ,मैं
    राखी का ऋण

    किस वेदना से और पीड़ा से गुज़रा होगा वो भाई
    क्या कहा जाए ?

    जवाब देंहटाएं
  28. कविता की पहली पंग्क्ति ही असहज, करती है, उद्वेलित करती है, एक कटु सच है और ऐसे सच हमें पसंद हैं. यह याद रह जायेगी.
    २. मृगी सी छली गयी तुम

    ३. दुर्गन्ध, ओह! वह दुर्गन्ध
    जली हुई देह की
    होठों पे
    अम्मा का नाम

    शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  29. हे ,मन दुखी हो गया ,,अगली पोस्ट प्लीज !

    जवाब देंहटाएं
  30. आँखे भीग गई इस कविता को पढ़ते हुए |मार्मिक |

    जवाब देंहटाएं
  31. मार्मिक तो है ही…इसमें दुख की एक ऐसी अन्तर्गुंफित लय है कि उदासी देर तक भीतर जगह बना लेती है…और सोचने के लिये मज़बूर करती है…

    जवाब देंहटाएं
  32. मार्मिक तो है ही…इसमें दुख की एक ऐसी अन्तर्गुंफित लय है कि उदासी देर तक भीतर जगह बना लेती है…और सोचने के लिये मज़बूर करती है…

    जवाब देंहटाएं
  33. रचना संवेदित करती है ।
    प्रशंसनीय ।

    जवाब देंहटाएं
  34. जिसकी भी कविता है उसे बहुत बहुत साधुवाद ! इसे पढ़ के बिलकुल स्तब्ध और नि:शब्द हूँ ! इस दर्द से गुजरने वाले हर भाई के लिये आँखें नाम हैं ! आपने इसे पढवाया कैसे इसके लिये आपका धन्यवाद करूँ समझ नहीं पा रही हूँ ! केवल बहुत अच्छी ही नहीं असाधारण रचना है यह ! धन्यवाद !

    जवाब देंहटाएं
  35. दुखद हैं ऐसे प्रकरण ...

    जवाब देंहटाएं
  36. अब हमारी बहनें स्वयं भाईओं की रक्षा करने की तैयारी में हैं वे किसी मदद के लिए किसी की मुहताज नहीं है
    मेरी दो बेटियाँ हैं तो क्या वे अरक्षित रह जाएंगी
    लड़किओं को अब अपनी रक्षा के लिए भाईओं का मुहं नहीं ताकना चाहिए

    जवाब देंहटाएं

फिल्म The Wife और महिला लेखन पर बंदिश की कोशिशें

यह संयोग है कि मैंने कल फ़िल्म " The Wife " देखी और उसके बाद ही स्त्री दर्पण पर कार्यक्रम की रेकॉर्डिंग सुनी ,जिसमें सुधा अरोड़ा, मध...