Wednesday, December 14, 2016

नवभारत टाइम्स में 'काँच के शामियाने ' की समीक्षा


बहुत शुक्रिया आभा जी  एवं 'नवभारत टाइम्स' 
आपने कितना सही लिखा है ," साज़िशें नहीं साहस कामयाब होता है ।"




No comments:

Post a Comment

काँच के शामियाने पर 'उषा भातले जी' एवं 'अश्विनी कुमार लहरी' की टिप्पणी

उषा भातले जी ने किताब भले ही देर से मंगवाई पर मिलते ही पढ़ डाली और पढ़ते ही प्रतिक्रिया भी दे दी। आपने बड़ी सटीक और समीक्षा की है,बहुत बहुत...