Wednesday, December 14, 2016

नवभारत टाइम्स में 'काँच के शामियाने ' की समीक्षा


बहुत शुक्रिया आभा जी  एवं 'नवभारत टाइम्स' 
आपने कितना सही लिखा है ," साज़िशें नहीं साहस कामयाब होता है ।"




No comments:

Post a Comment

भावना शेखर की नजर में "काँच के शामियाने "

भावना शेखर एक प्रतिष्ठित कवयित्री , कहानीकार और शिक्षिका हैं । शहर दर शहर विभिन्न साहित्यिक आयोजनों में शिरकत करती हैं यानि कि अति व्यस्...