Monday, March 14, 2016

साहित्यिक पत्रिका 'पाखी' में 'काँच के शामियाने' की समीक्षा

साहित्यिक पत्रिका 'पाखी' में 'कलावंती सिंह जी' द्वारा ' काँच के शामियाने' की समीक्षा ।प्रेम भारद्वाज जी एवम् कलावंती जी आपका बहुत आभार .

1 comment:

  1. वाह... बधाइयां, पढ नहीं पा रही पर निश्चित रूप से शानदार समीक्षा होगी. रश्मि, इसे तुम ब्लॉग पर लिख के पोस्ट करो, तो सब पढ सकेंगे.

    ReplyDelete

अनजानी राह

अनिमेष ऑफिस से एक हफ्ते की छुट्टी लेकर अपने घर आया हुआ था . निरुद्देश्य सा सड़कों पर भटक रहा था .उसे यूँ घूमना अच्छा लगता . जिन सड़कों ...