Monday, March 14, 2016

साहित्यिक पत्रिका 'पाखी' में 'काँच के शामियाने' की समीक्षा

साहित्यिक पत्रिका 'पाखी' में 'कलावंती सिंह जी' द्वारा ' काँच के शामियाने' की समीक्षा ।प्रेम भारद्वाज जी एवम् कलावंती जी आपका बहुत आभार .

1 comment:

  1. वाह... बधाइयां, पढ नहीं पा रही पर निश्चित रूप से शानदार समीक्षा होगी. रश्मि, इसे तुम ब्लॉग पर लिख के पोस्ट करो, तो सब पढ सकेंगे.

    ReplyDelete

"काँच के शामियाने " पर अभिषेक अजात के विचार

बहुत बहुत आभार अभिषेक अजात । आपने किताब पढ़ी, अपनी प्रतिक्रिया लिखी और फिर मेरी मित्र सूची में शामिल हुए । मैने पहले भी कहा है, कोई पुरुष ...